298 किमी घटकर हो जाएगा 22 किमी, 516 करोड़ का महासेतु बदलेगा कोसी से मिथिलांचल तक की तस्वीर

पटना
बिहार की जनता को मोदी सरकार एक और बड़ी सौगात देने जा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5146 करोड़ की लागत से बने कोसी महासेतु को शुक्रवार को प्रदेश की जनता को समर्पित करेंगे। इसके साथ ही इस अवसर पर पीएम 12 अन्य रेल परियोजनाओं का भी उद्घाटन करने वाले हैं। कार्यक्रम को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सम्पन्न कराया जाएगा। ‘कोसी महासेतु’ कोसी से लेकर मिथिलांचल तक की तस्वीर बदलने में एक बड़ी भूमिका निभाएगा।

86 साल बाद पूरी हुई मांग, कोसी और मिथिलांचल तक होगा सीधा संपर्क
इस रेल पुल के शुरू हो जाने से कोसी और मिथिलांचल का सीधा रेल संपर्क हो जाएगा। आपको बता दें कि इस पुल की मांग कोसी और मिथिलांचल के लोगों द्वारा 86 सालों से किया जा रहा था। सन् 1934 में आए भूकंप के दौरान कोसी नदी पर बना पुल क्षतिग्रस्त हो गया था। तबसे इस पुल के निर्माण की मांग की जा रही थी। जिसके बाद कोसी महासेतु की नींव 6 जून 2003 में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा रखी गई थी। लेकिन इस पुल को बनकर तैयार होने में 17 सालों का समय लग गया, और अब जब यह पुल बनकर तैयार हुआ है तो इसे देखने के लिए अब अटल जी हमारे बीच नहीं हैं।

Image may contain: bridge, plant and outdoor

रेल संपर्क से जुड़ा उत्तर और पूर्व बिहार
कोसी महासेतु के शुरू हो जाने से उत्तर और पूर्व बिहार एक बार फिर रेल संपर्क से जुड़ गया है। मौजूदा समय में निर्मली से सरायगढ़ तक के सफर के लिए लोगो को दरभंगा- समस्तीपुर- खगड़िया- मानसी-सहरसा होते हुए 298 किमी की दूरी तय करनी होती है। लेकिन अब कोसी पुल के उदघाटन के बाद से यह दूरी घटकर 22 किलोमीटर की हो जाएगी। इस नए पुल पर जून में ही ट्रेनों के परिचालन का ट्रायल सफल रहा है। वहीं कोसी पुल के उदघाटन के साथ ही पीएम मोदी सुपौल के सरायगढ़ से आसनपुर कुपहा के बीच ट्रेन भी रवाना करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *