पटना के जलवे-ही जलवे! आर्थिक अवसर में देश में 5वें स्थान पर, मुजफ्फरपुर और भागलपुर काफी पीछे

पटना : रोजगार की बढ़ती संभावनाओं के मामले में देश भर में पटना 5वें स्थान पर है। यह रैंकिंग केंद्र सरकार के शहरी विकास मंत्रालय ने इज ऑफ लिविंग की कसौटी पर जारी की है। इसमें देश के 111 शहरों को शामिल किया गया। ऐसे में पटना संभावनाओं के शहर में टॉप-5 में आया। इज ऑफ लिविंग की कसैटी की इस रैंकिंग में पटना से दिल्ली, बेंगलुरू, हैदराबाद, चेन्नई पीछे हैं। इन सबको पीछे छोड़कर गुजरात, राजस्थान, पंजाब, महाराष्ट्र या फिर दूसरे राज्यों के वे तमाम शहर पीछे हैं। बता दें इन शहरों में पटना या पूरे बिहार से भारी संख्या में लोग रोजी-रोजगार के लिए जाते हैं। जानकारों के मुताबिक पटना की रैंकिंग और अच्छी होती, अगर आर्थिक विकास का सतर थोड़ा बेहतर होता। अभी इस प्वाइंट पर पटना देश भर में 36 वें स्थान पर है। हालांकि आर्थिक विकास के स्तर की चुनौती धीरे-धीरे सिमट रही है और फिर पटना की रैंकिंग भी सुधर जाएगी।

संस्था ने शहरों को आबादी के हिसाब से बांटा था
ईज ऑफ लिविंग इंडेक्स में 49 शहरों को मिलियन प्लस और 62 शहरों को मिलियन से कम आबादी वाले शहरों में बांटा था। 2018 में पटना को 111 शहरों की सूची में 109वां स्थान मिला था। अब पटना को 49 शहरों की सूची में 33वां स्थान मिला है।

मुजफ्फरपुर को लगा झटका
मिलियन से कम वाले 62 शहरों की सूची में भागलपुर ने 30वांस्थान पाया है। मुजफ्फरपुर को सबसे अंतिम 62 वां स्थान मिला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *