रोजगार मेला की सांकेतिक तस्वीर। Image Source : altered by Live Bihar

बिहार में बहाल होंगे 8853 नर्स और 110 स्त्री रोग विशेषज्ञ, एक से डेढ़ महीने में होगी भर्ती

पटना : बिहार में महिला चिकित्सकों और नर्सों की बहाली प्रक्रिया शुरू हो गई है। 110 महिला चिकित्सक और 8853 नर्सों की तत्काली भर्ती होने वाली है। बहाली प्रकिया जल्द ही शुरू की जानी है। वहीं, एक से डेढ़ महीने में पूरी प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी। इस बारे में स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने बताया कि 110 स्त्री रोग विशेषज्ञों की नियुक्ति प्रक्रिया चल रही है। इनकी नियुक्ति प्रक्रिया पूरी करते ही अस्पतालों में प्रतिनियुक्त कर दिया जाएगा। प्रशिक्षण एवं अन्य विभागीय कुछ कार्यवाही भी साथ-साथ चलती रहेगी। मंत्री ने कहा कि 8853 नर्सों की नियुक्ति प्रक्रिया जारी है। यह एक से डेढ़ महीने में पूरी हो जाएगी। अभी अस्पतालों में नर्सों की कमी है, इसलिए सूबे के सभी स्वास्थ्य उपकेंद्रों पर दो एएनएम की जगह एक एएनएम को जिम्मेदारी दी गई है। नर्सों की नियुक्ति प्रक्रिया पूरी होते ही सभी जगहों पर इनकी तैनाती होगी।

शिक्षक नियोजन के तीसरे राउंड की आज काउंसलिंग
प्राथमिक शिक्षक नियोजन के तीसरे राउंड की काउसलिंग आज होगी। छठे चरण की काउंसलिंग का अंतिम दिन है। शिक्षा विभाग ने आचार संहिता के मद्देनजर एहतियातन चयन की सूची जारी नहीं की। निर्वाचन आयोग से मार्गदर्शन मिलने के बाद शिक्षा विभाग सभी चयनित अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र देगा। बता दें शिक्षा विभाग ने विधान पार्षद चुनाव के मद्देनजर राज्य निर्वाचन आयोग से जरूरी मार्गदर्शन मांगा है। विभाग ने शारीरिक शिक्षा एवं स्वास्थ्य अनुदेशकों के शेड्यूल के संदर्भ में भी मार्गदर्शन मांगा है। शारीरिक शिक्षा एवं स्वास्थ्य अनुदेशकों की नियुक्ति की प्रक्रिया अभी शुरू होनी है। विशेषज्ञों ने बताया कि प्राथमिक शिक्षक नियोजन करीब तीन साल से चल रहा है, इसलिए उस पर विधान पार्षद चुनावों की आचार संहिता प्रभावी नहीं होगी। अभी शिक्षा विभाग राज्य निर्वाचन आयोग के मार्गदर्शन का इंतजार कर रहा है। गौरतलब है कि छठे चरण के प्राथमिक शिक्षक नियोजन में अब केवल दो हजार से अधिक पदों के विरुद्ध चयनित उम्मीदवारों को ही नियुक्ति पत्र दिया जाना बाकी है।

क्लास लेते शिक्षक।

शिक्षकों के वेतन के लिए 9.87 अरब जारी
शिक्षा विभाग ने समग्र शिक्षा अभियान के तहत नियुक्त 264620 शिक्षकों के वेतन के लिए 9.87 अरब से अधिक रुपए जारी किया है। यह राशि पंचायती राज संस्था, नगर निकाय संस्था में कार्यरत शिक्षकों के लिए जारी की गई है। यह रकम वित्तीय वर्ष 2021-22 से संबंधित है। शिक्षा विभाग ने राज्य के माध्यमिक और उच्च माध्यमिक स्कूलों के शिक्षकों के वेतन के लिए 1.77 अरब रुपए के खर्च की मंजूरी दी है। इस संबंध में शिक्षा विभाग ने जरूरी निर्देश जारी किए हैं। वित्तीय वर्ष 2021-22 में माध्यमिक, उच्च माध्यमिक और उत्क्रमित उच्च माध्यमिक विद्यालयों में तैनात रात्रि प्रहरियों के लिए भी वेतन राशि मंजूर की गई है। सूत्रों के अनुसार रात्रि प्रहरियों के लिए 16.47 करोड़ रुपए जारी किए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *