30000 डॉक्टर, मेडिकल स्टाफ की नियुक्ति 15 सितंबर तक, ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट लगायेंगे अस्पतालों में

Patna : बिहार में कोविड-19 की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुये सरकार ने विस्तृत कार्ययोजना पर काम शुरू कर दिया है। इसके तहत सर्वाधिक जोर मेडिकल फैसिलिटी बढ़ाने पर ही दिया जा रहा है। खासकर दूसरी लहर में हुई चूकों से सबक लेते हुये तैयारियां की जा रही हैं। दूसरी लहर में मेडिकल इन्फ्रास्ट्रक्चर की कमियों का खामियाजा लोगों को बहुत उठाना पड़ा। सर्वाधिक जानमाल का नुकसान तो ऑक्सीजन और अन्य मेडिकल कमियों की वजह से हुआ। लोगों को अस्पताल में बेड ही नहीं मिले, बेड मिल गये तो ऑक्सीजन और वेंटीलेटर नहीं मिला। ये सब मिलने लगा तो कई केस में दवाइयां ही लोगों को मुहैया नहीं हुईं। इन सबको दृष्टिगत करते हुये बिहार सरकार ने व्यापक तैयारियां शुरू की है जो एक बेहद सार्थक पहल है।

स्वास्थ्य विभाग ने विस्तृत कार्ययोजना बनाई है। स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कोवड की तीसरी लहर की आशंका से लड़ने के लिये विभाग के अपर मुख्य सचिव सहित उच्चाधिकारियों के साथ बैठक की है। स्वास्थ्य मंत्री ने बताया विभाग द्वारा विभिन्न स्तरों पर सघन समीक्षा करते हुए भविष्य के लिए तैयारी की जा रही है। वर्ष 2021-22 में स्वास्थ्य विभाग लगभग 30 हजार नियुक्तियां विभिन्न पदों पर करेगा। इस क्रम में 6 हजार 338 विशेषज्ञ एवं सामान्य चिकित्सक, 3270 आयुष चिकित्सक, 4671 जीएनएम और 9233 एएनएम की नियुक्ति 15 सितंबर तक कर लेने का निर्देश दिया गया है। अन्य पदों पर लगभग 7 हजार नियुक्ति की प्रक्रिया का बिहार तकनीकी सेवा आयोग के माध्यम से पूरा करने का निर्देश दिया है।
स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि कोविड की तीसरी लहर की आशंका से बचाव के लिये अस्पतालों में ऑक्सीजन के लिये विभिन्न संयंत्र, उपकरण एवं ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट लगाने का निर्देश दिया है। साथ ही सभी नीकू, पीकू और एसएनसीयू में जरूरी उपकरण उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। सभी सीएचसी, रेफरल अस्पताल एवं पीएचसी पर 2-2 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर एवं सभी अनुमंडनलीय अस्पताल में 2-2 बाइपैप मशीन इस माह के अंदर भेजे जाएंगे।
स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि राज्य में कोरोना जांच का आंकड़ा मंगलवार को तीन करोड़ को पार कर गया। जांच को बढ़ाने पर विभाग का फोकस है, ताकि राज्य में कोरोना संक्रमण को रोका जा सके। वहीं यूनिसेफ की ओर से 100 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर स्वास्थ्य विभाग को प्राप्त हुआ है, जिसे अलग-अलग जिलों में भेजा जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *