घर में छापे जा रहे नकली नोट। बक्सर के पुलिस अफसरों ने प्रेस ब्रीफिंग कर दी पूरी जानकारी।

बेरोजगार होते ही नोट छापने लगा घर में, पिता-भाई भी धंधे में : प्रिंटर, लैपटॉप, नोट पंचिंग मशीन जब्त

Patna : महामारी में लोग बेरोजगार हो रहे हैं, कोई रास्ता नहीं सूझ रहा। ऐसा लग रहा है मानो कोई काम है ही नहीं मार्केट में। लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि आप घर में प्रिंटर ले आकर रख लें और नोट छापने लगें। अमूमन लोग मजाक में एक दूसरे को कहते भी हैं, नोट छापनेवाली मशीन लगा ही लो। धर्मेंद्र सिंह ने यह बात सीरियसली ले ली। बेरोजगार क्या हुआ घर में नोट छापनेवाली मशीन ही लगा ली। यही नहीं पूरे खानदान को तैयार कर लिया कि घर से अब नोट ही छापेंगे। बाबूजी, भाई, चचेरा भाई सब तैयार हो गये। लगा दनादन नोट छापने। सौ, दो सौ और पांच सौ के नोट भी छापे और भंजाने भी लगा। पर पड़ोसियों को इस बात की भनक लग ही गई। इससे पहले कि धर्मेंद्र नोट छापकर लखपति, करोड़पति बन पाता घर पर पुलिस पहुंच गई। पहले सुताई-कुटाई हुई और फिर जेल भेज दिया गया।

नकली नोट छापनेवालों के साथ पुलिस के अफसर। टेबल पर रखा है नकली नोट।

दरअसल बिहार के बक्सर जिले के राजपुर थाना क्षेत्र के मनोहरपुर गांव में नकली नोट छापने का खुलासा हुआ है। मंगलवार की रात गुप्त सूचना के आधार पर छापेमारी कर पुलिस ने तीन लाख 77 हजार 600 रुपए जब्त किये। जब्त रुपयों में सौ, दो सौ और पांच सौ के नोट हैं। पुलिस ने मौके से एक ही परिवार के तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार लोगों में धर्मेंद्र सिंह उसके पिता सुभाष सिंह और चचेरा भाई अशोक सिंह शामिल हैं। पुलिस ने प्रिंटर, लैपटॉप, नोट पंचिंग मशीन और महात्मा गांधी का मोनोग्राम बनाने वाली मशीन बरामद की है।
इसके अलावा दर्जनभर एटीएम कार्ड व अन्य कागजात भी बरामद किया गया है। गिरफ्तार आरोपियों को जेल भेज दिया गया है। वहीं उनके गिरोह में शामिल परिवार के अन्य सदस्यों की गिरफ्तारी के लिये छापेमारी की जा रही है।

एसपी ने बताया – गुप्त रूप से उन्हें लिखित शिकायत मिली थी कि आरोपी जाली नोट छापकर बाजारों में खपा रहे हैं। खुद को सेना का जवान बताने वाला धर्मेंद्र सिंह कहीं किसी फोर्स में नहीं था, बल्कि हैदराबाद में रहकर एक सिक्योरिटी एजेंसी चलाता था, जिसका ब्रांच वाराणसी में भी था। जाली नोट छापने की तरकीब उसे हैदराबाद में ही किसी से पता चली थी और लॉकडाउन में काम ठप होने के बाद वह नोट छापने में लग गया था।

पुलिस छापेमारी के दौरान मौके से 3.12 लाख के बिल्कुल असली जैसे दिखाई दे रहे नकली नोटों के साथ ही 65 हजार रुपयों के अर्धनिर्मित 500 के नोट बरामद किये गये हैं। 500 रुपयों के जो नोट बरामद किए गए हैं उनकी अभी कटाई की जानी बाकी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *