सिंदूरदान के वक्त कांपा लड़के का हाथ, लड़की बोली- नहीं करूंगी ब्याह, बारात लौटी, दूल्हे की उड़ी खिल्ली

PATNA : दूल्हे राजा बड़ी हसरत से दुल्हन लाने गये थे। सबकुछ ठीकठाक चल रहा था। धूमधाम से बारात निकली। कोविड के बाद भी मेहमान पहुंचे। बारात सज गई। जयमाल हो गया और फिर शादी की रस्में भी चलने लगीं। मंगलवार की रात सबकुछ मंगलमय था। लेकिन सिर्फ सिंदूरदान की रस्म होने तक। जैसे ही सिंदूरदान की रस्म शुरू हुई सारा गुड़ गोबर हो गया। लड़की तमतमा के अपने जगह से उठ गई और खाम ठोक दिया कि इस लड़के से शादी नहीं करूंगी। सब भौंचक रह गये। सवाल हुआ कि आखिर ऐसा क्या हुआ। जो जवाब था उसने परिजनों को भी अचंभे में डाल दिया। लड़की और सहयोगियों ने बताया कि लड़का सिंदूर मांग में नहीं डाल पा रहा है। उसका हाथ कांप रहा है। फिर क्या था हंसी खुशी का माहौल थोड़ी देर में तनावग्रस्त हो गया।
लड़कीवालों ने उद‍्घोषणा कर दी कि यह शादी नहीं हो सकती क्योंकि लड़का बीमार है। उसे परमानेन्ट बीमारी है। उसका हाथ हिलता है। कोई उस दूल्हे को बेनेफिट ऑफ डाउट देने के लिये तैयार नहीं था। फिर बात गरमा गरमी से शुरू होकर हिसाब किताब तक पहुंची और सारातियों ने दूल्हा, दूल्हा के पिता और कुछ बारातियों को बंधक बना लिया। आज बुधवार की शाम में जब शादी के खर्चों का पूरा हिसाब हो गया तो उन्हें छोड़ दिया गया।
बताया गया कि जहानाबाद जिले के काको स्थित दक्षिण टोला के निवासी राम प्रवेश पंडित के पुत्र जितेंद्र की बारात काफी धूमधाम से मंगलवार को बेलागंज थाना के सिंदानी गांव निवासी गोरा पंडित के घर गई थी। शादी की सभी रस्में धूमधाम से हो रही थी। औरते मांगलिक गीत गा रहीं थीं। इसी बीच जब सिंदूर देने का समय हुआ तो सिंदूर देते समय अचानक लड़के का हाथ कंपकपाने लगा। लड़की ने तनिक भी देर न किया और शादी से साफ इनकार कर दिया। शादी से इनकार करने के बाद गांव के भी कई लोग जुट गये।
इससे पहले कपड़ा, आभूषण सब लड़की को चढ़ चुका था। तो लड़कीवालों ने भी दहेज का हिसाब करना शुरू कर दिया। लड़कीवालों ने लड़के के पिता समेत चार लोगों को रातभर बंधक बनाए रखा। लड़की के परिजनों ने उपहार स्वरूप दी गई गाड़ी, सामान और दहेज के रुपए वापस लेकर बुधवार को लगभग चार बजे शाम में वर पक्ष के परिजनों को छोड़ा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *