मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बाढ़ का जायजा लेते हुये। जहरीली शराब के बाद इलाजरत ग्रामीण। Image Source : tweeted by @NitishKumar

नीतीश सरकार पर जहीरीली शराब का कलंक : 9 ने जान गंवाई, दर्जनभर भर्ती, प्रशासन गायब

Patna : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई दौरा किया और उसके बाद संबंधित विभागीय अफसरों व जिलाधिकारियों के साथ मीटिंग की। दावा है कि सबकुछ दुरुस्त रखा जायेगा। वैसे तो जलसंसाधन मंत्री संजय झा बाढ़ का पूरा मामला नेपाल की गलतियों पर डाल रहे हैं। पिछले सोलह साल में कुछ भी न बदल सकने वाली सरकार के पास कोई ठोस बहाना भी नहीं है। फिलहाल तो लोगों के बीच शराबबंदी की फिलॉस्फी काम कर रही है और सरकार खुश है कि रामराज्य है। नो दारूबाजी, सब जगह खुशहाली। हालांकि सरकार की इस सोच पर बार-बार कालिख पुत जाता है लेकिन सरकार है जो कुछ मानती नहीं। बहरहाल नया मामला पश्चिम चंपारण के देवराज के देउरवा गांव का है। इस गांव में दो दिन के भीतर नौ लोगों के प्राण पखेरू उड़ गये और दर्जनों हास्पिटल में भर्ती हैं। पर न तो पुलिस मुंह खोल रही है और न ही प्रशासन।

 

वैसे खबर है कि जहरीली शराब पीने से लौरिया प्रखंड की देवराज पंचायत के 9 लोगों की जान चली गई है। जबकि दर्जनभर लोगों का निजी क्लिनिक में इलाज चल रहा है। मंगलवार शाम को लोगों ने शराब पी थी। रात तक स्थिति गंभीर होने पर इलाज के लिये सभी दौड़े। बुधवार को 8 व गुरुवार को एक व्यक्ति की जान चली गई। लोग मामले को दबाने का प्रयास कर रहे हैं। जिनके परिजन चल बसे हैं वे भी वजह बताने से कतरा रहे हैं। देउरवा में चर्चाओं का बाजार गर्म है। जहरीली शराब की अभी कोई प्रशासनिक पुष्टि नहीं हुई है। बस चारों तरफ चर्चा जारी है।
दैनिक भास्कर की एक रिपोर्ट के मुताबिक जान गंवानेवालों में देउरवा पंचायत के वार्ड 7 निवासी जुम्मन मियां के पुत्र बिकाउ मियां, देउरवा पंचायत के वार्ड 6 निवासी लतीफ शाह, देउरवा पंचायत के ही रामवृक्ष चौधरी तथा देउरवा पंचायत के पंडा पट्टी निवासी भगवान पंडा, जोगीया देवराज निवासी नईम हजाम, सुरेश साह, और बगही देवराज निवासी राबुल मियां के नाम शामिल हैं। बताया जा रहा है कि तेलपुर और डुमरा के रहनेवाले इजहार और मुमताज किसी निजी हॉस्पिटल में इलाज करा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *