अपने 7 नेताओं को बिहार बीजेपी ने दिखाया बाहर का रास्ता, 2 वर्तमान विधायक भी शामिल

पटना

एक ओर जहां बिहार में विधानसभा चुनाव के पहले चरण का मतदान एकदम नजदीक आ गया है, वहीं बिहार की भारतीय जनता पार्टी इकाई ने एक बड़ा कदम उठाते हुए अपने दो वर्तमान विधायकों के साथ सात नेताओं को पार्टी से निष्काषित कर दिया है। छः साल के लिए इन नेताओं को पार्टी से निष्कासित करने का फैसला बिहार बीजेपी के अध्यक्ष संजय जायसवाल ने लिया है।

इन दो वर्तमान विधायकों के खिलाफ कार्रवाई

इन सात नेताओं में दो वर्तमान विधायक भी शामिल हैं। इनमें से एक रक्सौल से विधायक अजय कुमार सिंह जबकि दूसरे बगहा से विधायक आरएस पांडेय हैं। इन दोनों नेताओं का दरअसल जब पार्टी ने इस बार टिकट काट दिया और उन्हें दोबारा चुनाव लड़ने के लिए अपना उम्मीदवार नहीं बनाया तो इन्होंने बागी तेवर अपना लिया। ये पार्टी के खिलाफ ही चुनाव लड़ने के लिए मैदान में उतर गए।

ये 5 भी नप गए

बाकी जो भाजपा ने पांच और नेताओं को पार्टी से बाहर किया है, उनमें चार पूर्व विधायक भी शामिल हैं, जबकि एक पूर्व सांसद हैं। जिन नेताओं के खिलाफ पार्टी ने कार्रवाई की है, उनमें सुगौली के पूर्व विधायक विजय गुप्ता, बरारी के पूर्व विधायक विभास चंद्र चौधरी, सुपौल के पूर्व सांसद विश्व मोहन कुमार, कसबा के पूर्व विधायक प्रदीप दास और सुपौल के पूर्व विधायक किशोर कुमार मुन्ना शामिल हैं।

इनके खिलाफ भी हुई थी कार्रवाई

bjp seats list 2020 for bihar vidhan sabha chunav - BJP Seats List: बिहार  विधान सभा चुनाव 2020 के लिए BJP की 121 सीटों की पूरी लिस्ट

यह पहला मौका नहीं है, जब भाजपा ने अपने बागी नेताओं के खिलाफ इस तरह की कार्रवाई की है। इससे पहले भी बीते 12 अक्टूबर को 9 बागी नेताओं के खिलाफ संजय जायसवाल ने कार्रवाई की थी। इन नेताओं को भी 6 वर्षों के लिए पार्टी से निष्कासित करने का कदम पार्टी ने उठाया था। तब जिन नेताओं को पार्टी ने बाहर का रास्ता दिखाया था, उनमें इंदु कश्यप, रामेश्वर चौरसिया, रविंद्र यादव, उषा विद्यार्थी, राजेंद्र सिंह, अजय प्रताप, अनिल कुमार, मृणाल शेखर और श्वेता सिंह शामिल थीं।

सीटों का बंटवारा

बिहार: BJP आलाकमान को कार्यकर्ताओं की राय, कोरोना काल में टाल दें चुनाव -  bihar assembly elections 2020 date bjp sushil modi nitish kumar covid 19  flood - AajTak

गौरतलब है कि बिहार विधानसभा चुनाव भारतीय जनता पार्टी और जेडीयू ने क्रमशः 112 और 115 सीटों पर लड़ने का आपस में समझौता किया है। मुकेश सहनी की विकासशील इंसान पार्टी इस बार भाजपा से उसके कोटे से 9 सीटें लेकर चुनाव मैदान में है। वहीं, जीतन राम मांझी की हिंदुस्तान आवाम पार्टी को जेडीयू ने भी अपने खाते से चुनाव लड़ने के लिए सात सीटें दी हैं।

मतदान एक नजर में

बिहार में पहले चरण का मतदान 28 अक्टूबर को होने जा रहा है। इस दौरान 71 सीटों पर वोट डाले जाएंगे। इसके अलावा दूसरे चरण के लिए मतदान जहां 3 नवंबर को होगा, वहीं तीसरे चरण का मतदान 7 नवंबर को होगा। मतगणना 10 नवंबर को होने वाली है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *