बिहार में घर बैठे मंगा सकेंगे किसी भी गांव का नक्शा, जानें कैसे होगा ये संभव

पटना: अक्सर लोगों को अपने गांव, जमीन, मौजे के नक्शे को लेकर अभिलेख कार्यालयों के चक्कर काटने पड़ते हैं। यही नहीं लेखपाल, पटवारी को इसके लिए रिश्वत भी देनी पड़ती है। लेकिन अब ऐसा नहीं करना पड़ेगा। अब आप बिहार में किसी भी पते पर किसी भी गांव का नक्शा मंगा सकते हैं। पहले ये व्यवस्था की थी कि नक्शा केवल अपने जिले तक ही मिल सकता था। लेकिन नई व्यवस्था में पूरा बिहार कवर हो रहा है।

प्रदेश के जिलों के किसी भी गांव का नक्शा हासिल हो सकता है

अगर आप गया जिले में हैं और पटना के गांवों का नक्शा मंगाना चाहते हैं तो अब ये संभव होने वाला है। पहले बिहार में यह संभव नहीं था। अब बिहार सरकार इस व्यवस्था की ओर बढ़ गई है कि किसी भी जिले के प्लॉटर से राज्य के किसी भी गांव का नक्शा निकाला जा सकता है। और खास बात यह है कि सुविधा घर बैठे मिलने वाली है। बिहार सरकार एनआईसी से एक सॉफ्टेवयर डेवलप करा रही है, जो लगभग तैयार है।

ऐसे काम करेगी ये व्यवस्था

इस नई व्यवस्था के जरिए कोई भी रैयत घर बैठे अपने मौजे का नक्शा मंगा सकता है। ये व्यवस्था ऑनलाइन और ऑफलाइन मिक्स मोड में काम करेगी। नक्शे के लिए आवेदन आपको नए बन रहे सॉफ्टवेयर पर करना होगा। इसके तहत भूलेख विभाग, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया और डाक विभाग को आपस में कनेक्ट किया गया है। आपको भूलेख विभाग से आवेदन करना होगा और एसबीआई के चैनल से ऑनलाइन भुगतान होगा।

गुलजार बाग सर्वेक्षण कार्यालय से प्रिंट होकर पहुंचेगा नक्शा

एक बार एसबीआई से पेमेंट प्रक्रिया की पुष्टि होने के बाद यह सूचना गुलजार बाग स्थित सर्वेक्षण कार्यालय पहुंच जाएगी। वहां से नक्शा प्रिंट कराकर उसकी पैकिंग करा दी जाएगी। उपभोक्ता ने ऑनलाइन आवेदन करते वक्त जो पता दिया होगा, डाक विभाग के माध्यम से उस पते पर नक्शा पहुंच जाएगा। यानी ये जटिल और भागदौड़ वाली प्रक्रिया बेहद आसान हो जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *