मुकेश हिसारिया को उनकी तस्वीर वाला डेटॉल का एक पैक भेंट में मिला है। इनसेट में अमिताभ बच्चन और शाहरूख के साथ मुकेश हिसारिया। फोटो फेसबुक पर मुकेश के अकाउंट से ली गई है।

बिहार का गौरव- ब्लडमैन को डेटॉल का ऑवर प्रोटेक्टर सम्मान, कोरोना में लोगों की मदद में सबसे आगे

Patna : इस वर्तमान युग में, जब अधिकांश लोग आत्मकेंद्रित और भौतिकवादी होते जा रहे हैं, वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं जो अपने बारे में कम और दूसरों की भलाई के बारे में अधिक चिंतित हैं। ऐसे ही एक शख्स हैं मुकेश हिसारिया। पटना में अपने परिवार के साथ रहने वाले मुकेश हिसरिया पेशे से व्यवसायी और जुनून से सामाजिक कार्यकर्ता हैं। जीवन ग्लूकोज कंपनी के मालिक होने के अलावा वे एक वर्चुअल ब्लड बैंक भी चलाते हैं। वेबसाइट www.biharbloodbank.com, जो 1 अक्टूबर, 2011 को शुरू की गई थी और अब तक हजारों लोगों की मदद की जा चुकी है। इस वेबसाइट के माध्यम से जरूरतमंदों को रक्तदान नि:शुल्क किया जाता है। कोरोना काल में लोगों की मदद करने के लिए डेटॉल कंपनी ने मुकेश को सम्मानित किया है। डेटॉल ने उन्हें ऑवर प्रोटेक्टर सम्मान से नवाजा है।
बहरहाल मुकेश के साथ डेटॉल कंपनी ने एक एग्रीमेंट साइन किया है। इसके तहत उनकी तस्वीर को डेटॉल प्रोडक्ट के पैक पर लगाया जाएगा। इसके साथ ही समाज के लिए संकट की घड़ी में किए गए उनके काम की भी इसमें चर्चा होगी। डेटॉल ने मुकेश की कहानी को जन-जन तक पहुंचाने के लिए उनके साथ 6 महीने का एक एग्रीमेंट साइन किया है। डेटॉल की तरफ से मुकेश को उनकी तस्वीर वाला डेटॉल का एक पैक और एक प्रशस्ति पत्र भी भेजा गया है।
मुकेश को ब्लडमैन के नाम से भी पुकारा जाता है। वे बताते हैं- मेरा मानना ​​है कि दूसरों की सेवा के लिए समर्पित जीवन जीने लायक है, न कि ऐसा जीवन जिसमें व्यक्ति केवल अपने और अपने परिवार के बारे में चिंतित हो। दूसरों की मदद करने से मुकेश हिसारिया को आंतरिक शांति और संतुष्टि का अहसास होता है।


वेबसाइट के सदस्य के रूप में लगभग 250 व्यवसायी हैं जो रक्तदान के बारे में जनता में जागरूकता फैलाने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। उन्होंने व्हाट्सएप पर समूह भी बनाये हैं और रक्तदान को आसान तरीके से सुगम बनाने के लिए पूरे भारत के 100 से अधिक समूहों का हिस्सा हैं। इसके साथ ही यह समूह हर साल नि:शुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर का भी आयोजन करता है। उनकी पत्नी कहती हैं- मुकेश पूरी तरह से सामाजिक कार्यकर्ता हैं और दूसरों की मदद करने में कोई कसर नहीं छोड़ते।
वह न केवल रक्तदान को बढ़ावा देकर लोगों की जान बचाता है बल्कि सामुदायिक विवाहों का आयोजन कर लोगों को नया जीवन बनाने का अवसर भी देता है। उनकी संस्था हर साल 51 लड़कियों की शादी का खर्च वहन करती है। मुकेश की लोकप्रियता केवल उनके पैतृक स्थान तक ही सीमित नहीं है। उन्हें केबीसी के निदेशक सिद्धार्थ बसु ने आमंत्रित किया था और उन्हें बॉलीवुड के सुपरस्टार श्री अमिताभ बच्चन से मिलने का अवसर मिला। यहां तक ​​कि उन्हें एक कार्यक्रम में बॉलीवुड के बादशाह शाहरुख खान से मिलने का भी सौभाग्य मिला, जहां उन्होंने शाहरुख से लोगों में अधिक जागरूकता पैदा करने के लिए अपनी आने वाली फिल्मों में रक्तदान से संबंधित दृश्यों को शामिल करने का अनुरोध किया।

मुकेश कहते हैं- मेरा मानना ​​है कि लोग मशहूर हस्तियों का काफी हद तक अनुसरण करते हैं और अगर वे कुछ सकारात्मक और प्रेरक काम करते हैं, तो लोग निश्चित रूप से उनके जूते में कदम रखेंगे। मुकेश हिसारिया जैसा व्यक्ति इन दिनों वास्तव में खोजना मुश्किल है और हम उन्हें उनके द्वारा किए गए महान कार्य के लिए बधाई देते हैं और उनके भविष्य के प्रयासों के लिए सभी सफलता की कामना करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *