बंगाल में बीजेपी को झटका, लोकसभा चुनाव पहले दल-बदल का खेल शुरू, टीएमसी में शामिल हुआ विधायक

NEW DELHI : लोकसभा चुनाव पहले बंगाल में शुरू हुआ दल-बदल का ‘खेल’, बीजेपी को झटका देकर टीएमसी में शामिल हुए ये विधायक : तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक रहे तापस राय ने बुधवार को भाजपा का झंडा थमा था। इसके बाद जब एक ओर सेवानिवृत्त न्यायाधीश अभिजीत गंगोपाध्याय गुरुवार को भाजपा में शामिल हुए। इस उत्साह के बीच भाजपा को तृणमूल कांग्रेस ने एक झटका दे दिया।

गुरुवार को महिला दिवस के मौके पर मुख्यमंत्री व तृणमूल सुप्रीमो ममता बनर्जी के नेतृत्व में महिला मोर्चा का जुलूस निकला। इसी दौरान ममता के सांसद भतीजे व पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी ने नदिया जिले के राणाघाट दक्षिण क्षेत्र के भाजपा विधायक मुकुटमणि अधिकारी को तृणमूल का झंडा थमाकार पार्टी में शामिल करया। राणाघाट दक्षिण से इस विधायक राष्ट्रीय स्तर की जिम्मेदारियां भी हैं। वह राष्ट्रीय कार्यकारी समिति के सबसे कम उम्र के सदस्य थे। इस बार वह सत्ताधारी खेमे में चले गए?

मुकुटमणि अधिकारी ने क्या कहा?
धर्मतल्ला में ममता बनर्जी की सभा में तृणमूल का झंडा उठाने से पहले उन्होंने कहा कि पिछले पांच वर्षों से नादिया के लोगों को जो अभाव झेलना पड़ा है, उसे न्याय दिलाने के लिए मैं ममता बनर्जी और अभिषेक बनर्जी के आशीर्वाद से तृणमूल में शामिल हो रहा हूं।

इसे लेकर नेत प्रतिपक्ष सुवेंदु अधिकारी ने भी एक्स हैंडल पर लिखा। उन्होंने लिखा कि देखो महिला दिवस के जुलूस में भतीजे के बगल में कौन चल रहा है! राणाघाट दक्षिण से विधायक मुकुटमणि उनके पास है। घरेलू हिंसा का आरोप है।

शादी के 11 दिन बाद उनकी पत्नी ने शिकायत थाने में शिकायत की थी। अचानक उन्हें तृणमूल महिलाओं के सम्मान में मार्च का पोस्टर ब्वाय बना दिया। साथ ही मुकुटमणि अधिकारी के खिलाफ सात जून 2023 को दर्ज एफआइआर की कापी और मीडिया में छपी खबर भी पोस्ट किया।

लोकसभा का टिकट नहीं मिलने से क्षुब्ध थे अधिकारी
भाजपा सूत्रों के मुताबिक तय हुआ कि मुकुटमणि 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा उम्मीदवार होंगे। उस समय वह एक सरकारी अस्पताल में कार्यरत थे। लेकिन राज्य सरकार ने उन्हें उम्मीदवार बनने की इजाजत नहीं दी। इसके बाद उन्होंने नौकरी छोड़ दी और विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार बने राणाघाट दक्षिण से विजयी हुए।

उनके खेमे को लगा कि वह इस बार भी राणाघाट में भाजपा के लोकसभा उम्मीदवार होंगे, लेकिन भाजपा ने फिर से जगन्नाथ सरकार को टिकट दे दिया। राणाघाट की राजनीति में जगन्नाथ और कुट्टमणि के बीच झगड़ा जगजाहिर है। बीजेपी संसदीय दल का दावा है कि वह उम्मीदवार नहीं बन पाने के कारण तृणमूल में शामिल हुए हैं।

गौरतलब है कि पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा ने 77 सीटें जीती थीं लेकिन उपचुनाव में तीन सीटें हार गईं। इसके अलावा पांच विधायक भाजपा छोड़कर तृणमूल में शामिल हो गए। इनमें से एक सौमेन राय को हाल ही में भाजपा में तृणमूल से लौट आए है। इस बीच, बुधवार को तृणमूल विधायक तापस राय बीजेपी में शामिल हो गए।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *