Image Source : Facebook page of women's college

चांसलर अवॉर्ड- AN कॉलेज, वीमेंस कॉलेज बिहार के बेस्ट कॉलेज, डॉ शाहला यास्मीन, डॉ तनुजा हैं बेस्ट टीचर

Patna : राजभवन ने राज्य के बेहतरीन कॉलेजों समेत अन्य वर्गों में चांसलर अवॉर्ड पानेवालों के नाम की घोषणा कर दी है। नौ अलग अलग कैटेगरी में अवार्डों की घोषणा की गई है। हालांकि अवार्ड तो पूरे राज्य स्तर के लिये हैं, लेकिन एकाध कैटेगरी को छोड़कर सभी में पटना से ही जीते हैं।
जीतनेवालों में या तो पटना विश्वविद्यालय से हैं या फिर पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय से। राजभवन ने मंगलवार को 9 विभिन्न श्रेणियों में कुलाधिपति पुरस्कार के लिये चयन प्रक्रिया पूरी करते हुये नामों की घोषणा की। कुलाधिपति पुरस्कार 16 नवंबर को राजभवन के राजेंद्र मंडप में दिया जायेगा।
पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय के एएन कॉलेज को पूरे राज्य में सर्वश्रेष्ठ कॉलेज घोषित किया गया है। पीयू के पटना वीमेंस कॉलेज को बेस्ट वीमेंस कॉलेज का अवॉर्ड मिलेगा। एलएनएमयू के कुलपति प्रो. सुरेंद्र प्रताप सिंह सर्वश्रेष्ठ कुलपति और एएन कॉलेज के प्राचार्य प्रो. एसपी शाही को सर्वश्रेष्ठ प्राचार्य के लिये चुना गया है।

चांसलर अवॉर्ड के शैक्षणिक श्रेणी (लड़के और लड़कियां) में विनर तिलकमांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के विश्वबंधु उपाध्याय और सोनम कुमारी हैं और खेल श्रेणी के विनर भी टीएमबीयू के संकट कुमार और पटना विश्विवद्यालय की अंकिता कुमारी हैं।
सांस्कृतिक श्रेणी के विनर एलएनएमयू के आचार्य भास्कर और पटना यूनिवर्सिटी की श्वेता भारती हैं। सर्वश्रेष्ठ शिक्षक श्रेणी के विनर पटना यूनिवर्सिटी से डॉ शाहला यास्मीन और पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय से डॉ तनुजा हैं। सर्वश्रेष्ठ कॉलेज का अवॉर्ड पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय के एएन कॉलेज को मिलेगा तो बेस्ट वीमेंस कॉलेज का अवॉर्ड पटना वीमेंस कॉलेज को मिलेगा।
सर्वश्रेष्ठ युवा शिक्षक की कैटेगरी में आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय के राकेश कुमार सिंह नैनो विज्ञान में उनके शोध योगदान के लिये चुने गये हैं।
एएन कॉलेज के प्रिंसिपल एसपी शाही बोले- एएन कॉलेज को सर्वश्रेष्ठ कॉलेज बनाने में शिक्षकों, छात्रों और स्टाफ सभी का महत्वपूर्ण योगदान है। हमने नैक की ग्रेडिंग में लगातार सुधार किया है। हमें स्टार कॉलेज का दर्जा भी मिला है। महामारी के दौरान भी ऑनलाइन कक्षाएं और शैक्षणिक गतिविधियां जारी रहीं। इन प्रयासों ने सर्वश्रेष्ठ प्राचार्य का पुरस्कार दिलाया है।
सर्वश्रेष्ठ कुलपति प्रो. सुरेंद्र प्रताप सिंह बोले- हमने हमेशा अपनी जिम्मेदारियों को निभाने की पूरी कोशिश की है। हमारे साथियों ने भी इस काम में तहे दिल से साथ दिया। मैं उन सभी का हृदय से आभार व्यक्त करता हूँ। मिथिला विश्वविद्यालय के विकास के लिये अपनी क्षमता का उपयोग करना जारी रखेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *