चिराग पासवान। Image Source : Twitter

चिराग ने बाढ़ का हवाला दे एपीओ की परीक्षा रद करने की मांग की, बीपीएससी ने कैंसिल कर दी

Patna : लोक जनशक्ति पार्टी के मुखिया चिराग पासवान ने एक बार फिर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र लिखा है। इस बार उन्होंने बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) द्वारा आयोजित की जा रही सहायक अभियोजन अधिकारी (एपीओ) परीक्षा को रद्द करने की मांग की है। चिराग ने इस मांग को लेकर मुख्यमंत्री के साथ ही एक पत्र बीपीएससी अध्यक्ष को भी भेजा है। दरअसल, एपीओ की परीक्षा दो पालियों में 24 और 26 अगस्त को और एक पाली में 27 अगस्त को होनी निर्धारित थी। इसमें काफी संख्या में अभ्यर्थी शामिल होंगे। लेकिन, इस परीक्षा को देने में उम्मीदवारों के सामने सबसे बड़ी समस्या खड़ी हो गई है। कई नदियों का जलस्तर काफी बढ़ गया है। उत्तर बिहार के ज्यादातर इलाके बाढ़ में डूबे हुये हैं। चिराग के इस पत्र के बाद देर रात बीपीएससी ने इस परीक्षा को स्थगित कर दिया है।

इससे पहले इस मामले में चिराग पासवान ने खुद राज्य के आपदा प्रबंधन विभाग की रिपोर्ट का हवाला देते हुये कहा कि बिहार के 15 जिलों में बाढ़ आ गई है। इन जिलों के 93 प्रखंडों की 694 पंचायतें पूरी तरह से बाढ़ की चपेट में हैं। इस वजह से एपीओ परीक्षा में बैठने वाले उम्मीदवारों के सामने काफी परेशानी हो रही है। उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। सवाल युवाओं के भविष्य का है। इसलिये इस समय परीक्षा लेने के बारे में सोचना चाहिये। बाढ़ की समस्या खत्म होने के बाद ही इसे लेना चाहिये। इसे तत्काल रद्द किया जाना चाहिये।
इधर बिहार लोक सेवा आयोग ने सहायक अभियोजन अधिकारी (एपीओ) मुख्य (लिखित) प्रतियोगी परीक्षा स्थगित कर दी है। आयोग के परीक्षा सचिव-सह-नियंत्रक ने कहा है कि 24 अगस्त 2021 से 27 अगस्त तक पटना मुख्यालय स्थित परीक्षा केंद्रों पर आयोजित सहायक अभियोजन अधिकारी मुख्य (लिखित) प्रतियोगी परीक्षा अपरिहार्य कारणों से स्थगित की जाती है।

इसकी मांग ऑल इंडिया स्टूडेंट फेडरेशन ने पहले ही की थी। रद्द होने के बाद एआईएसएफ के राज्य सचिव सुशील कुमार ने कहा है कि एआईएसएफ ने बिहार में भीषण बाढ़ को देखते हुये एक दिन पहले परीक्षा स्थगित करने की मांग की थी। उन्होंने कहा कि बीपीएससी सचिव प्रभात सिन्हा से मोबाइल पर बातचीत में उन्होंने परीक्षा रद्द करने की मांग की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *