प्रतीकात्मक तस्वीर। Image Source : Agencies

औरंगाबाद-गया में क्रोमियम तो सासाराम-रोहतास में पोटैशियम का भंडार, खनन की मंजूरी, पट‍्टा मिला

Patna : बिहार भी खनिज संपदा के मामलों में मालामाल हो गया है। केंद्र सरकार ने यहां क्रोमियम और पोटेशियम की खदानों की नीलामी और उत्खनन की अनुमति दे दी है। बिहार सरकार को अब इनकी नीलामी करनी है। इससे बिहार सरकार को भी काफी राजस्व मिलेगा और निश्चित रूप से आसपास के लोगों को रोजगार भी मुहैया होगा। फिलहाल केंद्रीय खान मंत्रालय ने बिहार को चार खनिज ब्लॉक सौंपे हैं। ये खदानें क्रोमियम और पोटेशियम की हैं और सासाराम, रोहतास, गया और औरंगाबाद में स्थित हैं। बुधवार को केंद्रीय कोयला एवं खनन मंत्री प्रह्लाद जोशी ने फिक्की सभागार में खनिज सर्वेक्षण के दस्तावेज बिहार के खान एवं भूविज्ञान मंत्री जनक राम को सौंपे। केंद्रीय मंत्री ने बिहार के अलावा अन्य राज्यों के मंत्रियों और प्रतिनिधियों को इससे जुड़े दस्तावेज भी दिये। केंद्र ने 14 राज्यों को विभिन्न खनिजों के 100 ब्लॉक सौंपे हैं और उनसे जल्द से जल्द नीलामी करने का आग्रह किया है।

जनक राम ने बताया कि बिहार को पोटैशियम के तीन ब्लॉक और क्रोमियम का एक ब्लॉक दिया गया है। इसमें सासाराम-रोहतास में 10 वर्ग किलोमीटर का नदवाडीह ब्लॉक, आठ वर्ग किलोमीटर में टीपा खनिज ब्लॉक और सात वर्ग किलोमीटर के शाहपुर में ब्लॉक शामिल हैं। तीनों पोटेशियम के ब्लॉक हैं। इसके अलावा औरंगाबाद-गया में क्रोमियम के ब्लॉक हैं। यह आठ वर्ग किलोमीटर है। क्रोमियम का उपयोग विमानन और मोबाइल में किया जाता है। इसका सीधा फायदा बिहार को होगा। मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार इनसे जुड़े विभिन्न पहलुओं का विस्तार से अध्ययन कर जल्द ही इन ब्लॉकों की नीलामी की प्रक्रिया शुरू करेगी।
निश्चय ही इससे बिहार को लाभ होगा। राजस्व के अलावा सैकड़ों रोजगार सृजन होंगे। आसपास के लोगों को ठेका पट‍्टा मिलेगा। मार्च में माइंस एंड मिनरल्स एक्ट में संशोधन के बाद यह पहला मौका था जब जी-4 स्तर यानी प्रारंभिक सर्वेक्षण स्तर पर खनिज ब्लॉकों की नीलामी की अनुमति दी गई है। अब तक खनन सर्वेक्षण के चार स्तरों में से जी-4 स्तर का सर्वेक्षण केवल सरकारी एजेंसियों या सार्वजनिक उपक्रमों द्वारा ही किया जा सकता था। भारतीय भूगर्भ सर्वेक्षण की रिपोर्ट के आधार पर सर्वाधिक 21 प्रखंड मध्य प्रदेश, 13 प्रखंड राजस्थान, 10 प्रखंड छत्तीसगढ़, 8 प्रखंड महाराष्ट्र, 5 प्रखंड झारखंड और 4 प्रखंड बिहार में आये हैं।
गोल्ड ब्लॉक: छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले में एक, झारखंड के सरायकेला खरसावां जिले में दो, कर्नाटक के हावेरी, चित्रदुर्ग, धारवाड़, वेल्लारी, देवनागिरी और हासन जिले के 7 ब्लॉक, मध्य प्रदेश के सिंगरौली में दो, उत्तर प्रदेश के सोनभद्र में एक, पश्चिम बंगाल के बांकुरा-पुरुलिया में एक ब्लॉक।
डायमंड ब्लॉक: आंध्र प्रदेश के कडप्पा में डायमंड, मध्य प्रदेश में छतरपुर और पन्ना में दो ब्लॉक।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *