सीएम नीतीश कुमार ने किया ट‍्वीट- बिहार में 15 मई तक लॉकडाउन लगाने का निर्णय

New Delhi : बिहार सरकार ने कोरोना महामारी से निपटने के लिये 15 मई तक पूर्ण लॉकडाउन का निर्णय लिया है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने ट‍्विटर हैंडल से इसकी जानकारी दी। हालांकि अभी तक विस्तृत गाइडलाइन्स नहीं आई है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ट‍्वीट किया है कि आपदा प्रबंधन को गाइडलाइन्स आज ही बनाकर सार्वजनिक करने का आदेश दिया गया है। अभी तक बिहार में नाइट कफर्यू लगा हुआ था। बता दें कि एक तरफ हाईकोर्ट बिहार सरकार पर गरम है तो दूसरी ओर कोरोना से दिनोंदिन राज्य की हालत बदतर होती जा रही है। विपक्ष ने भी नीतीश सरकार पर ढुलमुल रवैये का आरोप लगाया है।

नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने ट‍्वीट करके कहा कि 15 दिन से समूचा विपक्ष लॉकडाउन करने की माँग कर रहा था लेकिन छोटे साहब अपने बड़े साहब के आदेश का पालन कर रहे थे कि 2 मई तक लॉकडाउन नहीं करना है। अब जब गाँव-गाँव, टोला-टोला संक्रमण फैल गया तब दिखावा कर रहे है। इस संकट काल में तो निम्नस्तरीय नौटंकी और राजनीति से बाहर आइये, बाज आइए। इससे पहले कल उन्होंने ट‍्वीट किया था मुख्यमंत्री जी यह समय मुंह में दही जमाकर बैठने का नहीं है। आपको कुछ करना होगा। लोगों को ऑक्सीजन और बेड अस्पतालों में नहीं मिल रहा है। आम लोग बीमारी से तडप रहे हैं। इलाज के अभाव में दम तोड़ रहे हैं। अन्य राज्य सरकारें केंद्र पर दबाव बनाकर अपने अपने कोटे से ज्यादा का ऑक्सीजन हासिल कर ले रही है लेकिन बिहार सरकार अपने कोटे का ऑक्सीजन भी हासिल नहीं कर पा रही है।

हाईकोर्ट में सोमवार को सुनवाई के दौरान इसी मसले पर सरकार की खूब खिंचाई हुई। हाईकोर्ट ने कहा कि केंद्रीय कोटे से 194 मेट्रिक टन ऑक्सीजन का आवंटन हो रहा है लेकिन उठाव केवल 160 मीट्रिक टन ही हो रहा है। ऐसा क्यों हो रहा है। हाईकोर्ट ने कहा कि राज्य सरकार के पास कोरोना महामारी से निपटने का कोई ठोस एक्शन प्लान नहीं है। स्वास्थ्य विभाग के कुछ अफसरों के जरिये कुछ डाटा दे दिया जा रहा है। सरकार की ओर से अब तक जो प्लान दिये गये हैं वो आधे अधूरे और कोरोना से निपटने के लिये अप टू मार्क नहीं है। सरकार के पास डॉक्टर, वैज्ञानिक, नौकरशाह की कोई एडवाइजरी कमेटी तक नहीं है। अब तक कोई वार रूम नहीं है।
इधर क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की मंगलवार को बैठक है, इसमें कोरोना और लॉकडाउन को लेकर निर्णायक फैसला होने की उम्मीद की जा रही है। सरकार की एक तबके की सोच है कि अगर कोरोना से छुटकारा पाना है तो लॉकडाउन ही एकमात्र उपाय है। वर्तमान स्थिति का जायजा लेने के लिए सोमवार को नीतीश कुमार पटना की सड़कों पर घूमे और देखा कि कोरोना प्रोटोकाल का पालन सख्ती से हो रहा है या नहीं। वैसे तो प्रशासनिक स्तर पर सख्ती की बात कही जा रही है लेकिन कोरोना केसों की संख्या घटने की बजाये बढ़ती ही जा रही है। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने ट‍्वीट कर सरकार पर निशाना साधा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *