कांग्रेस ने भी अब नौकरी को लेकर कर दिया ये बड़ा वादा, डिग्री पर यूं मिलेगी नौकरी

पटना

बिहार में विधानसभा चुनाव शुरू हो गए हैं। पहले चरण का मतदान भी संपन्न हो गया है। इसी बीच कांग्रेस ने एक बड़ा वादा कर दिया है। कांग्रेस ने कहा है कि यदि प्रदेश में महागंठबंधन की सरकार बन जाती है तो बिहार में स्वास्थ्य सुविधाओं की बेहतरी को ध्यान में रखते हुए एक बड़ा कदम यह सरकार उठाएगी। कांग्रेस ने वादा किया है कि न केवल ओपन रिक्रूटमेंट सिस्टम यह सरकार प्रदेश में लेकर आएगी, बल्कि राइट टो हेल्थ भी सरकार लाने के प्रति प्रतिबद्ध है।

दूर की जाएगी इनकी कमी

रणदीप सिंह सुरजेवाला ने शराब घोटाले में CM पर चुप्पी साधने का लगाया आरोप,  कहा... - randeep singh surjewala accused cm of silence in liquor scam  says-mobile

कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने यह बात एक संवाददाता सम्मेलन में कही है। उन्होंने बताया है कि स्वास्थ्य सुविधाओं की स्थिति बिहार में कितनी बदतर है, यह बात किसी से छिपी नहीं है। सुधार इसमें तभी हो सकता है, जबकि लैब टेक्नीशियन और नियमित डॉक्टरों के साथ रेडियोलॉजिस्ट, गायनेकोलॉजिस्ट, नर्सों और स्पेशलिस्ट आदि की कमी को दूर किया जाए। सुरजेवाला ने यह भी कहा कि इन सब मामलों पर राजनीति नहीं की जा सकती। ये चीजें प्रदेश की जनता के हित में बहुत ही जरूरी हैं।

दूसरे चरण में 24 सीटों पर कांग्रेस उम्मीदवार

Bihar assembly election: campaigning for 71 seats of first phase will end  today - बिहार विधानसभा चुनाव : पहले चरण की 71 सीटों के लिए आज थम जाएगा  प्रचार का शोर

बिहार विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण में जो 94 सीटों पर चुनाव होने हैं, उनमें से 24 सीटों पर महागंठबंधन की तरफ से कांग्रेस ने अपने उम्मीदवार उतारे हुए हैं। जनता को रिझाने की एक और कोशिश करते हुए कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा है कि यदि सूबे में महागंठबंधन की सरकार बन जाती है तो एमबीबीएस, डेंटिस्ट, हार्ट स्पेशलिस्ट और गाइनेकोलॉजिस्ट सहित कई तरह की स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए रोजगार प्रदान करने हेतु ‘डिग्री दिखाओ, इंटरव्यू दो और नौकरी पाओ’ वाली व्यवस्था को लागू कर दिया जाएगा। उन्होंने यह भी बताया कि विशेष तरीके से नर्सों की कार्यक्षमता की जांच की जाएगी और उन्हें नियुक्ति प्रदान की जाएगी।

डीजी हेल्थ करेंगे जांच

Bihar Congress begins electoral preparations nominated supervisor in all  districts | बिहार कांग्रेस ने शुरू की चुनावी तैयारी, सभी जिलों में  पर्यवेक्षक मनोनीत | Hindi News, बिहार एवं ...

कांग्रेस नेता ने यह भी कहा कि ये सभी नियुक्तियां जो लोक सेवा आयोग के जरिए हो रही हैं, अब इनके जरिए ये नियुक्तियां नहीं होंगी। अभ्यर्थियों के प्रमाणपत्रों के साथ उनकी डिग्री की वैधता की जांच डीजी हेल्थ करेंगे। अभ्यर्थियों का इंटरव्यू लिया जाएगा और उसी के आधार पर उन्हें तत्काल नियुक्ति पत्र भी दे दिया जाएगा। उन्होंने संवाददाता सम्मेलन में हरियाणा का उदाहरण भी दिया और बताया कि जब वहां कांग्रेस की सरकार थी, तो इस तरह की व्यवस्था सरकार ने वहां लागू की थी।

कांग्रेस को मिलीं सीटें

विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण में कांग्रेस ने जिन सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं, उनमें प्रमुख रूप से गोपालगंज, महाराजगंज, वैशाली, बेगूसराय, भागलपुर, पटना साहिब, खगड़िया, नालंदा, बांकीपुर, राजगीर, बेनीपुर, हरनौत, बेतिया, पारू और चनपटिया आदि सीटें शामिल हैं।

लगाया है पूरा जोर

bihar chunav 2020 congress will have big challenge to save its 7 wining  seat in second phase - Bihar Election 2020: दूसरे चरण में 7 जीती सीटें  बचाना कांग्रेस के लिए चुनौती

कांग्रेस को 24 सीटें तो दूसरे चरण में लड़ने के लिए मिल गई हैं, लेकिन यहां उसे खासी मशक्कत करनी पड़ेगी। वह इसलिए कि जिन 24 सीटों पर कांग्रेस चुनाव लड़ रही है, पिछले विधानसभा चुनाव में इनमें से केवल 8 सीटें ही उसे चुनाव लड़ने के लिए मिली थीं। ऐसे में बाकी सीटें कांग्रेस के लिए पूरी तरह से नई हैं। यही वजह है कि कांग्रेस ने चुनाव प्रचार में पूरी ताकत झोंक दी है, ताकि यहां पार्टी के उम्मीदवारों को जीत मिल सके।

उम्मीदवारों का चयन

पार्टी की जीत सुनिश्चित करने के लिए कांग्रेस ने उम्मीदवारों का भी चयन काफी माथापच्ची के बाद किया है। बेगूसराय से महिला कांग्रेस की अध्यक्ष को पार्टी ने चुनाव मैदान में उतार दिया है, जबकि पार्टी के बड़े नेता डॉ अशोक कुमार जिन्होंने कि रोसड़ा से चुनाव में जीत दर्ज की थी, उन्हें इस बार कुशेश्वर स्थान से चुनाव लड़ने के लिए टिकट दिया गया है।

रोजगार को लेकर वार-पलटवार

bihar assembly elections congress sonia gandhi rahul gandhi congress  president bihar assembly elections 2020 - बिहार विधानसभा चुनाव: कांग्रेस  में छंटे असमंजस के बादल, तेज होगी चुनावी चाल

बिहार विधानसभा चुनाव में अब केवल दो चरणों के ही मतदान बचे हुए हैं। वह दिन नजदीक आता जा रहा है, जब चुनाव के नतीजों की घोषणा की जाएगी और यह साफ हो जाएगा कि प्रदेश में सरकार किसकी बन रही है। इसमें कोई शक नहीं कि इस बार के चुनाव में रोजगार एक बड़ा मुद्दा है। विपक्ष नीतीश कुमार सरकार पर रोजगार के मुद्दे को ही लेकर इस बार ज्यादातर हमलावर रहा है और चुनाव प्रचार के दौरान भी रोजगार को ही मुद्दा बनाकर इस बार महागठबंधन सत्ता में आने की कोशिशों में लगा हुआ है। यही वजह है कि तेजस्वी यादव भी इससे पहले रोजगार को लेकर प्रदेश के युवाओं से वादा कर चुके हैं। वहीं, अब कांग्रेस ने भी रोजगार दिए जाने को लेकर इतना बड़ा वादा किया है। खैर, ये तो नतीजे ही बताएंगे कि महागठबंधन के घटक दलों के वादों पर प्रदेश के युवा कितना भरोसा जताते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *