बालू घाट की प्रतीकात्मक तस्वीर। राकेश दुबे। Image source : https://www.facebook.com/rakesh.dubey.942

बालू माफिया से सांठगांठ- SP राकेश दुबे, SP सुधीर पोरिका, 4 डीएसपी, 3 सीओ, एमवीआई सस्पेंड

Patna : … तो इसे कहते हैं सर मुड़ाते ही ओले पड़े। हाल ही में डीएसपी से प्रमोट होकर एसपी बने थे। एसपी बनने से पहले भी वे हमेशा लाइम लाइट में ही रहे। हमेशा वीआईपी पोस्टिंग। केस कोई भी हो, दखल जरूरी जैसा। लेकिन इस बार मामला उल्टा हो गया। एसपी बनने के बाद पहली ही पोस्टिंग में तमाम तरह की अनियमितताओं के आरोप लग गये। बालू माफिया से सांठगांठ के आरोप। दैनिक भास्कर अखबार भी स्टोरी दर स्टोरी करता गया। पूरी अभियानी पत्रकारिता में हर दिन बालू डकैती की बात होती रही और अंतत: आज जब विधानसभा में मामला उठा तो बिहार सरकार को भी बड़ी कार्रवाई का मौका मिल ही गया। जी हां, हम बात कर रहे हैं एसपी राकेश दुबे की, जिन्हे बालू माफियाओं से सांठगांठ के आरोप में सस्पेंड कर दिया गया है। उनके साथ ही एक और एसपी सुधीर कुमार पोरिका को सस्पेंड कर दिया है।

बालू माफिया से सांठगांठ के मामले में ही आज चार डीएसपी, तीन अंचलाधिकारी और एक मोटर वाहन निरीक्षक (एमवीआई) को भी सस्पेंड किया गया है। पहले जब आरोप लगे तो भोजपुर के तत्कालीन एसपी राकेश दुबे और औरंगाबाद के तत्कालीन एसपी सुधीर कुमार पोरिका को मुख्यालय बुला लिया गया था। लेकिन आज इस मामले में इनके निलंबन की अधिसूचना जारी कर दी गई। दरअसल दैनिक भास्कर न्यूज पेपर ने 15 मई से लगातार कई ख़बरें बालू माफियाओं पर की। इसमें बताया कि बिहार के 3 जिलों के 138 घाटों पर बालू माफियाओं का राज है। भोजपुर में तो अवैध बालू के वाहनों को पुलिस एस्कॉर्ट करती दिखी थी। इसके बाद पुलिस मुख्यालय ने दावा किया था कि 20 दिनों में पटना समेत 6 जिलों के बालू माफियाओें पर 155 FIR, 160 गिरफ्तार किये गये। और इनसे करोड़ों का जुर्माना वसूला गया।
सरकार ने तीन जिलों के प्रमुख स्थानों पर पदस्थापित अंचल अधिकारियों को निलंबित कर दिया है। इनमें पटना के पालीगंज के सीओ राकेश कुमार, भोजपुर के कोईलवर के अनुज कुमार और औरंगाबाद के बारुण के अंचलाधिकारी बसंत राय शामिल हैं। इन सभी पर अवैध तौर पर जारी बालू खनन में संलिप्त रहने के आरोप लगे हैं। सरकार के राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग ने इसका नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। आज ही विधानसभा में बालू मामले पर जमकर हंगामा हुआ। कई विधायकों ने अवैध बालू खनन और भंडारण को लेकर सवाल उठाये थे। इसके बाद शाम होते-होते यह बड़ी कार्रवाई हो गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *