सरकार सो रही है और लखीसराय में किऊल नदी पर खुद पुल बना रहे लोग, देखिए नजारा

पटना

किऊल और लखीसराय के बीच बहने वाली किऊल नदी पर अस्थाई पुलिया बनने का काम शुरू हो गया है। आप खुश हो रहे होंगे कि चलो विकास का काम हो रहा है। लेकिन असली विडंबना तो यही है। ये विकास का काम सरकार नहीं करा रही है क्योंकि सरकार तो सो रही है। जनसहयोग से इस काम को कराया जा रहा है। असल में स्थानीय मीडिया ने पिछले दिनों इस मामले को जोरशोर से उठाया था। लोग यहां नदी के पानी को पारकर जोखिम वाले तरीके से सफर पूरा करते हैं। इसके बाद से ही यहां काम शुरू हुआ है।

जेसीबी लगाकर लोग काम में जुटे

गुरुवार से किऊल नदी पर अस्थाई पुलिया को बनाने का काम शुरू हुआ है। इससे पहले लोग नदी के पानी से होकर या रेलवे पुल की मदद से इस रास्ते को पार करते चले आ रहे थे। दोनों ही स्थितियां खतरनाक थीं। प्रशासन की तरफ से जब पुल को लेकर कोई सुनवाई नहीं हुई तो लोग जनप्रयास से ही इसे पूरा करने में जुट गए हैं।

पिछले साल भी बनवाया गया था पुल

ऐसा नहीं है कि किऊल नदी के पास रहने वाले लोगों की ये पीड़ा नई है। ये पी़डा सालों साल से चली आ रही है। करीब 20 गांवों की आबादी इससे जूझ रही है। पिछले साल भी लोगों ने आपसी सहयोग से किऊल नदी पर अस्थाई पुलिया बनवाई थी। लेकिन इस साल की बाढ़ में वह पुलिया ध्वस्त हो गई। अब जब आवागमन में लोगों को फिर समस्या होने लगी, तो लोग एक बार फिर पुलिया बनाने में जुट गए हैं।

दो दिनों में काम हो जाएगा पूरा

जनसहोग से बन रही इस अस्थाई पुलिया का काम दो दिनों में पूरा हो जाने की उम्मीद है। काम पूरा हो जाने के बाद लोगों को आवागमन में काफी राहत मिल जाएगी। उन्हें रेलवे पुल के खतरनाक रास्ते का सहारा नहीं लेना होगा। लेकिन ये कोई परमानेंट इलाज नहीं है। स्थानीय जनप्रतिनिधियों को लोगों की समस्याओं की सुध लेते हुए इसका कुछ स्थाई हल निकालने का प्रयास करना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *