चिराग तले अंधेरा : लोजपा के 5 सांसदों ने संसदीय दल के नेता चिराग को निकाला, पशुपति नये नेता

New Delhi : लोक जनशक्ति पार्टी में बड़े बंटवारे को लेकर अटकलें तेज हैं। लोजपा के पांच सांसद चिराग पासवान की कार्यशैली से खुश नहीं हैं। सांसदों ने पार्टी में अपना गुट बनाकर संसदीय बोर्ड से चिराग को निकाल बाहर किया है और लोकसभा अध्यक्ष को इस फैसले की सूचना दे दी है। लोजपा के पांच सांसद चाहते हैं कि उन्हें लोकसभा में अलग इकाई के रूप में मान्यता दी जाए। स्पीकर ओम बिरला को लिखे पत्र में सांसदों ने कहा है कि उन्होंने चिराग पासवान को सदन के नेता पद से हटाने का फैसला किया है। लोजपा के संस्थापक रामविलास पासवान के बेटे चिराग को पिछले साल अपने पिता के निधन के बाद पार्टी मामलों को संभालने में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा था। खासकर विधानसभा चुनाव में जदयू से अलग होकर चुनाव लड़ने का उनका फैसला बिलकुल उल्टा पड़ गया। ऐसी खबरें हैं कि पांचों सांसद जदयू में शामिल हो सकते हैं।

 

पांच सांसद पशुपति पारस (चिराग के चाचा), प्रिंस राज (पशुपति के बेटे), चंदन सिंह, वीणा देवी और महबूब अली कैसर हैं। लोकसभा में लोजपा के छह सांसद हैं, जिनमें चिराग पासवान भी शामिल हैं। सांसद चाहते हैं कि लोकसभा में लोजपा के नये नेता के तौर पर चिराग की जगह पशुपति लें। पशुपति हाजीपुर से लोकसभा सांसद हैं और रामविलास पासवान के छोटे भाई हैं। चिराग जमुई की सीट का प्रतिनिधित्व करते हैं। लोजपा सांसदों ने रविवार को बिड़ला से मुलाकात कर उन्हें नये घटनाक्रम के बारे में एक पत्र सौंपा। उन्होंने बिरला से लोकसभा में पशुपति को लोजपा का नया नेता मानने का आग्रह किया। सूत्रों ने कहा कि पांचों सांसद जल्द ही जनता दल (यूनाइटेड) में शामिल हो सकते हैं। इस साल फरवरी में, लोजपा के सैकड़ों कार्यकर्ता और नेता जद (यू) में शामिल हुये थे।
बिहार विधानसभा चुनाव लड़ने को लेकर उनके चाचा पशुपति कुमार पारस चुनाव के दौरान से ही नाराज थे। विधानसभा चुनाव के पहले भी पार्टी के सांसदों में टूट की बात सामने आई थी। बागी सांसदों का नेतृत्व पशुपति कुमार पारस ही कर रहे थे। बाद में अपने लेटर हेड पर इन चर्चाओं का खंडन कर पारस ने इस मामले पर विराम लगा दिया था। लेकिन चिराग के खिलाफ पार्टी में नाराजगी कम नहीं हुई। विधानसभा चुनाव में लोजपा के बेहद खराब प्रदर्शन के बाद यह नाराजगी चरम पर पहुंच गई। उधर, जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) भी कई सीटों पर हार के लिये लोजपा को जिम्‍मेदार मानती है। चुनाव के दौरान और उसके बाद जेडीयू के नेता लोजपा पर तीखे हमले बोलते रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *