सीसीटीवी फुटेज और जिला जज उत्तम आनंद। Image source : screengrab from cctv footage

धनबाद के जिला जज उत्तम आनंद की हत्या का मामला सुप्रीम कोर्ट में उछला, एसआईटी गठित

New Delhi : धनबाद जिले के एक अतिरिक्त जिला न्यायाधीश (एडीजे) उत्तम आनंद की हत्या का मामला आज सुप्रीम कोर्ट में उठा। घटना के बाद पहले तो यह मानकर चला गया कि यह एक्सीडेंट हो गया है लेकिन सीसीटीवी फुटेज देखकर साफ हो गया कि मार्निंग वॉक कर रहे एडीजी को जानबूझ कर ऑटो से टक्कर मारी गई। वे सड़क के एकदम बायें जागिंग कर रहे थे कि पीछे से तेजी से ऑटो आई और उन्हें हिट किया। वे गिरे तो उनके सर पर वार किया गया। ऑटो भी कुछ घंटे पहले ही चोरी की गई थी। और ऑटो के मालिक ने सीसीटीवी में ड्राइवर फ्रंट शील्ड पर बने दिल के निशान से पहचान लिया। अभी तक पुलिस मामले की छानबीन ही कर रही है। पर शुरुआती जांच से यह तो साफ हो गया है कि इस कांड के पीछे सिंह मेसन से जुड़े हाई प्रोफाइल केस और गैंग्स ऑफ वासेपुर के छिछोरे अपराधियों का हाथ है।

बहरहाल आज सुप्रीम कोर्ट में यह मामला उठाया गया था। मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना ने कहा कि उन्होंने झारखंड उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश से बात की है। न्यायमूर्ति रमना ने कहा- उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश ने इस मुद्दे को उठाया है और मामला अब उच्च न्यायालय में है। हम मामले से अवगत हैं और हम इस पर ध्यान देंगे।
पता चला है कि टेंपो के चालक को एक सहयोगी के साथ गिरफ्तार कर लिया गया है। साथ ही टेंपो को भी कब्जे में ले लिया गया है। पुलिस ने कहा कि जांच से पता चला है कि इस घटना से कुछ घंटे पहले वाहन चोरी हो गया था। एडीजे उत्तम छह माह पहले ही धनबाद में तैनात किये गये थे। वह सुबह 5 बजे खाली सड़क पर मॉर्निंग वॉक कर रहे थे कि धनबाद में मजिस्ट्रेट कॉलोनी के पास एक ऑटो ने उन्हें तेजी से धक्का मार कर गिरा दिया। अस्पताल ले जाने वाले एक व्यक्ति ने उन्हें सड़क पर खून से लथपथ अवस्था में पड़ा पाया। उन्हें पास के अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उन्होंने दम तोड़ दिया।
शुरुआत में पुलिस उनकी पहचान की पुष्टि भी नहीं कर पाई थी। हालांकि बाद में परिजनों ने पुलिस से संपर्क किया, जिसके बाद शव की शिनाख्त हुई। इस बीच एक जज की मौत की जांच के लिये विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया गया है। धनबाद के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) संजीव कुमार ने कहा- मैंने सिटी एसपी के नेतृत्व में एक एसआईटी का गठन किया है जो सभी संभावित कारणों को देखेगा। सीसीटीवी फुटेज और सभी संबंधित पहलुओं का विश्लेषण किया जायेगा। हमने शिकायत दर्ज करने के लिये पीड़ित परिवार के सदस्यों से बात की है। पत्नी के आरोपों के आधार पर एफआईआर दर्ज की गई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक उनके सिर पर भारी चीज से चोट के निशान मिले हैं।
उत्तम आनंद धनबाद शहर में माफिया हत्याओं के कई मामलों को देख रहे थे। वे होटवार जेल में बंद गैंगस्टर समेत 15 बड़े अपराधियों का केस देख रहे थे। उन्होंने हाल ही में उत्तर प्रदेश के एक कथित कॉन्ट्रैक्ट किलर की जमानत याचिका खारिज कर दी थी। सिंह मेंसन से जुड़ा यह क्रिमिनल एक हाई-प्रोफाइल हत्या के मामले में धनबाद जेल में है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *