File Photo : PTI

दिग्विजय बोले- धारा 370 के फैसले पर पुनर्विचार करेंगे, गिरिराज बोले- कांग्रेस का पहला प्यार पाकिस्तान

New Delhi : कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह का एक ऑडियो चैट लीक हुआ है। शनिवार को लीक इस चैट में उन्होंने कहा कि वह सत्ता में आने पर अनुच्छेद 370 को रद्द करने के फैसले पर फिर से विचार करेंगे। क्लब हाउस ऐप पर पाकिस्तान स्थित पत्रकार शाहजेब को दिये इंटरव्यू में उन्हें यह कहते सुना गया। ऑडियो क्लिप भाजपा ने जारी की है। ऑडियो 12 मई का है। जारी ऑडियो क्लिप में दिग्विजय सिंह ने कहा- जब से अनुच्छेद 370 को रद्द किया गया है तब से कश्मीर में लोकतंत्र नहीं है। अगर कांग्रेस सत्ता में आती है, तो कश्मीर से अनुच्छेद 370 को रद्द करने के फैसले पर फिर से विचार किया जायेगा। उन्होंने आगे कहा – वहां इंसानियत नहीं दिखाई गई। सभी को सलाखों के पीछे डाल दिया गया। कश्मीरियत एक ऐसी चीज है जो धर्मनिरपेक्षता के मूल सिद्धांतों में से एक है।

जारी ऑडियो क्लिप में सिंह ने कई टिप्पणियां कीं हैं, जिसमें अनुच्छेद 370 को रद्द करने के फैसले की आलोचना भी शामिल है। उन्होंने इस चैट में एक पत्रकार के सवालों का जवाब देते हुये कहा- वास्तव में, कश्मीर में आरक्षण कश्मीरी पंडितों को दिया गया था, इसलिये, अनुच्छेद 370 को रद्द करने और जम्मू-कश्मीर के राज्य का दर्जा कम करने का निर्णय एक दुखद निर्णय है। और कांग्रेस पार्टी को निश्चित रूप से इस मुद्दे पर फिर से विचार करना होगा। कुछ ही देर बाद भाजपा केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने भी लीक ऑडियो को लेकर दिग्विजय सिंह पर तंज कसा। उन्होंने ट्विटर पर आरोप लगाया कि सिंह ने केवल राहुल गांधी के संदेश को पाकिस्तान तक पहुंचाया है। उन्होंने ट्वीट किया- कांग्रेस का पहला प्यार पाकिस्तान है। दिग्विजय सिंह ने पाकिस्तान को राहुल गांधी का संदेश दिया है। कांग्रेस कश्मीर को हथियाने में पाकिस्तान की मदद करेगी।
अनुच्छेद 370 को रद्द करने का निर्णय 5 अगस्त, 2019 को नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार द्वारा लिया गया था। इरादा जम्मू और कश्मीर को भारत के साथ जोड़ने का था। दरअसल, दिग्विजय देश-विदेश के कुछ पत्रकारों से वर्चुअली बात कर रहे थे। इस दौरान शाहजेब जिल्लानी ने धारा-370 से जुड़ा एक सवाल कांग्रेस महासचिव से पूछा। दावा किया जा रहा है कि जिल्लानी एक पाकिस्तानी पत्रकार हैं। जिल्लानी ने पूछा था कि जब मौजूदा सरकार जाती है और भारत को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बाद दूसरा प्रधानमंत्री मिल जाता है, तो कश्मीर पर आगे का रास्ता क्या होगा? मुझे पता है कि अभी भारत में जो हो रहा है, उसके कारण यह हाशिये पर है। हालांकि, यह एक ऐसा मुद्दा है जो दोनों देशों के बीच इतने लंबे समय से मौजूद है।
ट्विटर प्रोफाइल के मुताबिक, जिल्लानी पूर्व बीबीसी संवाददाता हैं और जर्मनी में रहते हैं। वे पाकिस्तान, बेरूत, वॉशिंगटन और लंदन में काम कर चुके हैं। इससे पहले वह डीडब्ल्यू न्यूज से भी जुड़े रह चुके हैं। हालांकि, दिग्विजय सिंह को अपना परिचय देते हुये उन्होंने कहा था कि वह इस वक्त डीडब्ल्यू न्यूज के लिये काम कर रहे हैं और पाकिस्तान के सिंध में उनका जन्म हुआ था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *