सांकेतिक तस्वीर। Image Source : Agencies

शैक्षणिक संस्थानों में चालू होगी पढ़ाई, तैयारी पूरी, उपस्थिति 50 फीसदी, स्टूडेंट‍्स-पैरेंट‍्स को भी राहत

Patna : प्रदेश के प्लस टू के सभी स्कूल, सभी डिग्री कालेज, सभी सरकारी और निजी विश्वविद्यालय, तकनीकी शिक्षण संस्थान 50 फीसदी उपस्थिति के साथ सोमवार से खुल जायेंगे। करीब 100 दिनों बाद बिहार में शैक्षणिक गतिविधियां शुरू होने से स्टूडेंट‍्स और पैरेंट‍्स काफी खुश हैं। संक्रमण की दूसरी लहर को देखते हुये नीतीश कुमार सरकार ने 5 अप्रैल से सभी शिक्षण संस्थानों को बंद रखने का निर्णय लिया था। इस बंदी में सभी तरह के संस्थान बंद थे। इनमें अधिकांश संस्थान ऐसे हैं, जहां ऑनलाइन भी कोई गतिविधि नहीं हो पा रही थी। स्टूडेंट‍्स की पढ़ाई लिखाई पूरी तरह से चौपट हो गई थी। अब कोरोना संक्रमण की धीमी रफतार को देखते हुये 12 जुलाई से दसवीं से ऊपर के सभी शैक्षणिक संस्थानों को खोलने का निर्णय लिया गया है। हालांकि कोचिंग पूर्ववत ही बंद रहेंगे।

कोचिंग बंद रहने से जहां कोचिंग संस्थान संचालकों का बुरा हाल है वहीं कोचिंग के माध्यम से कॉम्पीटीटिव एक्जाम की तैयारी कर रहे स्टूडेंट‍्स की तैयारी भी बेकार स्थिति में है। वैसे शैक्षणिक संस्थानों को खोलने को लेकर शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार ने 6 जुलाई को सभी जिलाधिकारी, सभी कुलपति और सभी जिला शिक्षा अधिकारियों के लिये गाइडलाइन जारी किया। शैक्षणिक संस्थानों का संचालन विद्यार्थियों की सुरक्षा को सर्वोपरि रखते हुये तथा कोरोना को लेकर जारी दिशा-निर्देशों का पालन करते हुये किया जायेगा।
शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने कहा – विद्यार्थी, शिक्षक, अभिभावक, सभी को शुभकामना कि रोग व संक्रमणमुक्त वातावरण में अध्ययन कार्य चले। आग्रह कि सभी कोरोना गाइडलाइन का पालन अवश्य करेंगे। संक्रमण का दौर इसी गति से नियंत्रण में रहा तो बची हुई कक्षाओं का भी जल्द संचालन आरंभ होंगे।
कक्षाओं में विद्यार्थी के बीच कम से कम छह फीट की दूरी होगी। इसी दूरी के साथ बैठने की व्यवस्था की जाएगी। स्टाफ रूम, कार्यालय कक्ष, आगत कक्ष में भी यह दूरी रखनी होगी। संस्थान व स्कूल के सभी गेट आगमन व प्रस्थान के समय खोलकर रखने होंगे। आने-जाने के लिए अलग-अलग गेट चिह्नित किये जायेंगे। वैसे शैक्षणिक संस्थान या विद्यालय जहां नामांकन अधिक हैं, दो पालियों में संचालित किये जायेंगे। विद्यालय समारोह, त्योहार आदि के आयोजन से बचेंगे। विद्यालय एसेम्बली कक्षाओं में ही वर्ग शिक्षक की देख-रेख में सामाजिक दूरी का पालन करते हुए होंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *