पूर्व CM जीतनराम मांझी बोले – कोविड डेथ सर्टिफिकेट पर भी लगाओ PM मोदी की तस्वीर

New Delhi : पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने बिहार में कोरोना से जान गंवाने वाले लोगों की डेथ सर्टिफिकेट पर भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर लगनी चाहिये। मांझी ने आज कोविड के वैक्सीनेशन का दूसरा डोज लिया। दूसरा डोज लेने के बाद उनको वैक्सीनेशन का प्रमाण पत्र दिया गया, जिस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर लगी थी। इसके बाद उन्होंने दो ट‍्वीट किये और एक तरह से प्रदेश की नीतीश सरकार और केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को कटघरे में खड़ा कर दिया है। ताज्जुब यह है कि मांझी इस तरह की बातें तब कर रहे हैं जब उनकी मदद से ही बिहार में भाजपा जदयू की सरकार चल रही है। उनका बेटा भी सरकार में मंत्री है। ऐसे में उनके ट‍्वीट से यह साफ मतलब निकाला जा सकता है कि वे राज्या सरकार पर दबाव बनाकर अपना उल्लू सीधा करने की कोशिशों में लगे हुये हैं। हालांकि ट‍्वीट करने की कुछ घंटों के बाद डिलीट भी कर दिया।

पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने रविवार को ट‍्वीट किया- आज कोविड वैक्सीन का दूसरा डोज महकार स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में जाकर लिया। आग्रह है आप सभी कोविड वैक्सीन ज़रूर लें और इसे लेने के लिए दूसरों के प्रेरित करें। फिर उन्होंने ट‍्वीट किया- को-वैक्सीन का दूसरा डोज़ के उपरांत मुझे प्रमाण-पत्र दिया गया जिसमें प्रधानमंत्री की तस्वीर लगी है। देश में संवैधानिक संस्थाओं के सर्वेसर्वा राष्ट्रपति हैं इस नाते उसमें राष्ट्रपति की तस्वीर होनी चाहिए, वैसे तस्वीर ही लगानी है तो राष्ट्रपति के अलावा P.M स्थानीय C.M की भी तस्वीर हो। सोमवार को वे थोड़े और आगे बढ़ गये और लिखा- वैक्सीन के सर्टिफिकेट पर यदि तस्वीर लगाने का इतना ही शौक है तो कोरोना से हो रही मृत्यु के डेथ सर्टिफिकेट पर भी तस्वीर लगाई जाए। यही न्याय संगत होगा।
मांझी के इन ट‍्वीट‍्स के बाद बिहार की राजनीति का माहौल फिर से गर्म हो गया है। बता दें कि बिहार में नीतीश कुमार की सरकार मांझी की चार विधायकों की पार्टी हम और मुकेश सहनी के वीआईपी पार्टियों के चार विधायकों की बैसाखी पर खड़ी है। एनडीए सरकार के पास 125 विधायकों का समर्थन है। भाजपा और जदयू के कुल 117 विधायक हैं और बहुमत के लिये 122 विधायक चाहिये। ऐसे में इन दो पार्टियों की ब्लैकमेलिंग झेलना नीतीश सरकार की भी मजबूरी ही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *