Dummy Pic Image Source : tweeted by @nitin_gadkari

2 साल में बनेगी सुल्तानगंज से भागलपुर तक फोरलेन सड़क, जमीन अधिग्रहण का काम पूरा

पटना : सुल्तानगंज स्थित खड़िया गांव जंक्शन से भागलपुर तक फोरलेन सड़क निर्माण अगले दो साल में पूरा हो जाएगा। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) ने एप्वाइंटटेड टेड 12 मार्च 2022 को जारी कर दिया है। अब इस फोरलेन सड़क का निर्माण शुरू किया जाएगा। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने मुंगेर-मिर्जाचौकी फोरलेन सड़क का निर्माण पैकेज दो के तहत शुरू कर दिया है। इस बारे में डीएम सुब्रत कुमार सेन ने बताया कि हाल में पैकेज दो के अंतर्गत अधिग्रहित आरओडब्ल्यू से कराए जा रहे कार्यों का निरीक्षण किया गया था। इसी क्रम में निर्माण कार्य की गति धीमी होने से भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण मुंगेर के परियोजना निदेशक को पत्र लिखकर एप्वाइंटटेड डेट तय करने को कहा था। डीएम ने बताया कि पैकेज तीन एवं पैकेज चार में भू-अर्जन कार्य करीब पूरा हो गया है। काम शुरू करने में कोई कठिनाई नहीं होने से भारतीय राजमार्ग प्राधिकरण के परियोजना निदेशक को पैकेज तीन एवं पैकेज चार में भी एप्वाइंटटेड डेट तय किए जाने का निर्देश दिया गया है। उक्त पैकेों में अर्जित होने वाली जमीन के रैयतों के बीच 295 करोड़ रुपए से अधिक मुआवजे का वितरण कर दिया गया है। 31 मार्च तक 350 करोड़ रुपए मुआवजे का भुगतान किया जाना है।

निर्माणाधीन फोरलेन।

मानकों के अनुरूप ही बनेंगी सड़कें
सभी विभागों को घनी आबादी से गुजरने वाली सड़कों में सुरक्षा चिह्न एवं मानकों के प्रावधान करने का निर्देश दिया गया है। बाढ़ को देखते हुए सड़क सुरक्षा ऑडिट करने का पथ निर्माण विभाग (आरसीडी) और नेशनल हाईवे (एनएच) विभाग को टास्क मिला है। यह सुनिश्चित करने कहा है कि बाढ़ प्रभावित इलाके में बनने वाली सभी सड़कें बाढ़रोधी बनाई जानी है। पथ निर्माण विभाग के अभियंता प्रमुख द्वारा जारी अधिसूचना में बीते दिनों रोडमैप से संबंधित कार्यों की समीक्षा के मद्देनजर विभिन्न बिंदुओं पर निर्देश दिया है। कहा गया कि सभी प्रमुख पुलों की सुरक्षा ऑडिट बाढ़, भूकंप एवं सड़क दुर्घटना के दृष्टकोण से करना है। यह भी सुनिश्चित करना है कि सभी पुल भूकंपरोधी हों। सड़क हादसे को रोकने के लिए यह सुनिश्चित करना है कि आबादी के बीच से गुजरने वाले सभी एनएच, एसएच एवं एमडीआर रोड में सुरक्षा चिह्नों एवं मानकों का प्रावधान हो। ताकि पैदल राहगीरों को चलने में कोई परेशानी नहीं हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *