दियरा इलाके से लोग छोटे-छोटे बच्चों को भूखे प्यासे लेकर पटना की ओर पलायन कर रहे हैं... बाढ़ से हाहाकार है.. Image Source : tweeted by @Pranavraj299

गंगा हो गई बेकाबू- बिहार में लोगों का जीना मुहाल, कुछ नहीं कर रही सरकार

New Delhi : उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के कई इलाकों में लगातार बारिश हो रही है। उत्तर प्रदेश् के लगभग 1243 गांवों में जबर बारिश हो रही है, जिससे गंगा और यमुना नदियों में जल स्तर में भारी वृद्धि हुई है। इसकी वजह से बिहार में भी गंगा अपने विकराल रूप में सामने आ रही है। पटना के दियरा इलाके से लोग छोटे-छोटे बच्चों को भूखे प्यासे लेकर पटना की ओर पलायन कर रहे हैं। बाढ़ से हाहाकार हैं। गंगा के निकटवर्ती क्षेत्रों में लोगों का जीना मुहाल हो गया है। प्रयागराज में गंगा और यमुना का जलस्तर तेजी से खतरे के निशान (84.73 मीटर) के करीब पहुंच रहा है और निचले इलाकों में बाढ़ की स्थिति गंभीर होती जा रही है। कई इलाकों में पानी भर जाने से लोग सुरक्षित स्थानों की ओर पलायन कर रहे हैं। फाफामऊ में गंगा का जलस्तर 84.03 मीटर और छतनाग में 83.30 मीटर दर्ज किया गया।

इसी तरह, यमुना का जल स्तर, जैसा कि उसी समय दर्ज किया गया था, नैनी में 83.88 मीटर था। उत्तर प्रदेश के करीब 23 जिले भारी बारिश की मार झेल रहे हैं। गंगा नगर, नेवादा, अशोक नगर, बेली गांव, राजापुर के कुछ हिस्सों, सलोरी, बड़ा और छोटा बघारा, बद्र, सनौती, दारागंज और नागवासुकी जैसे कई इलाकों में बाढ़ का पानी घुस गया है।

यमुना का जलस्तर लगातार बढ़ने से बाढ़ का पानी बालुआघाट में नदी के किनारे बारादरी तक पहुंच गया है। इसी तरह वाराणसी में भी गंगा का जलस्तर तेजी से बढ़ा है और इस तरह चेतावनी के स्तर को पार कर खतरे के निशान की ओर बढ़ रहा है। उत्तर प्रदेश में गंगा और यमुना नदियों के जल स्तर में लगातार वृद्धि के बाद योगी आदित्यनाथ सरकार ने पिछले शुक्रवार को राज्य में अलर्ट जारी किया था। इसी तरह बिहार में भी लगातार बारिश से पटना में गंगा नदी का जलस्तर पिछले गुरुवार को खतरे के निशान से ऊपर पहुंच गया है। अन्य घाटों के अलावा कृष्णा घाट भी जलमग्न हो गया है क्योंकि जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। क्षेत्र के लोगों ने स्थिति पर चिंता व्यक्त की।

इसके बाद बिहार की मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को गंगा नदी के आसपास के इलाकों का दौरा किया और वहां के हालात का जायजा लिया। उन्होंने अधिकारियों को राज्य में बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए प्रभावी तैयारी करने के निर्देश दिये। बिहार के 12 जिलों में बारिश को लेकर 15 अगस्त तक रेड अलर्ट घोषित किया गया है। नदी के जलस्तर में वृद्धि की वजह से सड़क पर तीन फीट पानी बह रहा है। सड़क पर पानी आने की वजह से परिचालन बाधित हो गया है, जिससे यूपी-बिहार का संपर्क टूट गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *