किसानों के लिए खुशखबरी लेकर आई नीतीश सरकार, यहां जानें

पटना

बिहार के किसानों के लिए एक खुशी की खबर है। राज्य के किसानों को अब खेती के लिए अलग से बिजली मिलेगी। आपको बता दें कि बिहार सरकार पहले से ही किसानों को खेती के लिए महज 65 पैसे प्रति यूनिट की दर से बिजली दे रही है। लेकिन अब किसानों को खेती के लिए अलग से बिजली भी मिलने जा रही है। इसके लिए अलग से राज्य भर में डेडिकेटेड फीडर का काम चल रहा है और अब अंतिम चरण में भी पहुंच गया है।

आपको बता दें कि किसानों को अलग से बिजली देने की योजना दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के तहत मार्च, 2016 में स्वीकृत हुई थी। इसमे 60 फीसदी केंद्र तो 40 फीसदी राज्य सरकार खर्च कर रही है। जानकारी के मुताबिक अब तक 80फीसदी कार्य पूरा कर लिया गया है और बाकी का भी 20 फीसदी कार्य जल्दी पूरा कर लिया जाएगा। हालांकि बिहार में बाढ़ के कारण कई इलाकों में अभी काम रुका हुआ है, लेकिन बाढ़ का प्रभाव खत्म होते ही ऐसी जगहों का कार्य भी शुरू कर दिया जाएगा।

गौरतलब है कि किसानों के लिए बिजली एक बहुत बड़ी समस्या है। बिजली नहीं मिलने पर कई बार किसान अपनी फसलों में समय से सिंचाई नहीं कर पाते, जिसके कारण उनकी फसलों को काफी नुकसान पहुंचता है उन्हें घाटे का भी सामना करना पड़ता है। इस योजना के पूरा हो जाने पर राज्य के किसानों को इससे काफी लाभ पहुंचेगा।

मालूम हो कि इस योजना के तहत 33-11 केवी के 293 सब-स्टेशन बनाने का लक्ष्य है। जिसमें से अभी तक कुल 235 सब-स्टेशन बनाए जा चुके हैं। बाकी सब-स्टेशनों के बनाने का कार्य भी अब अंतिम चरण में पहुंच गया है। इतना ही नहीं बल्कि खेती के लिए तार, पोल और 25 व 65 केवी के ट्रांसफॉर्मर भी लगाए जा रहे हैं। 79 हजार 857 ट्रांसफॉर्मर में से 55 हजार 52 ट्रांसफॉर्मर लग चुके हैं जो लक्ष्य का 69 फीसदी है।

ज़ाहिर है कि किसानों को अलग से बिजली देने के इस योजना से किसानों को खेती में बिजली न मिलने की समस्याओं से छुटकारा मिल जाएगा। अब देखना यह है कि बाकी बचे काम को कार्यदाई कंपनी द्वारा कितने समय में पूरा कर लिया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *