आया तूफान यास : उत्तर बिहार में चक्रवाती हवाओं के साथ तेज बारिश, सहमा-सहमा सा है नजारा

New Delhi : आखिरकार जिसका इंतजार आशंका के भाव के साथ किया जा रहा था, उसका शुरुआती असर दिखना शुरू हो गया है। उत्तर बिहार के दरभंगा, समस्तीपुर, मुजफफरपुर समेत अधिकांश जिलों में तेज चक्रवात के साथ बारिश हो रही है। दरभंगा-मधुबनी में दिन में ही अंधेरा हो गया है। तेज हवा के साथ बारिश ने गर्मी से राहत जरूर दी है लेकिन डर का भाव भी है। क्योंकि तूफान अपने साथ नकारात्मकता भी लाता है। राजधानी पटना में भी गर्मी से राहत तो मिली है लेकिन बारिश का इंतजार है। काले बादल आसमान में छाये हुये हैं। ऐसा अनुमान है कि 30 मई तक पूरे बिहार में मध्यम से भारी बारिश होगी। गरज वाले बादल सिर्फ बरसेंगे ही नहीं बल्कि ठनका बनकर विनाशकारी भी साबित हो सकते हैं। मौसम को लेकर अलर्ट जारी कर दिया गया है।

बिहार के किशनगंज में मौसम ने करवट ली। आज सुबह से ही यहां जमकर बारिश हो रही है। डॉ राजेंद्र प्रसाद केन्द्रीय कृषि विवि के मौसम विज्ञानी ने बताया- बंगाल की खाड़ी पर कम दबाव का क्षेत्र बनने से आने वाली चक्रवाती तुफान का असर मुख्य रूप से ओडिसा, पश्चिम बंगाल के तटीय क्षेत्र पर पड़ेगा। मौसम विभाग का अनुमान है कि इस दौरान तेज तूफान की रफ्तार 40 से 50 किलोमीटर प्रति घंटे तक रहेगी। भागलपुर, बांका में भी मौसम ने अचानक करवट ली है जिसके चलते लोगों को गर्मी से राहत मिली है। मुज़फ्फरपुर में मंगलवार की सुवह से ही आसमान में बादल छा गये और सुबह करीब सात बजे से हल्की बारिश भी होने लगी। करीब 11 बजे तक हल्की बूंदाबांदी होती रही। आसमान में बादल छाये हुये हैं।
कृषि वैज्ञानिकों की ओर से खड़ी फसलों में सिंचाई स्थगित रखने की हिदायत दी गई है। बारिश की संभावना को देखते हुये तैयार मक्का फसल की कटनी, दौनी 26 मई से पहले कर लेने का सुझाव दिया है। इसी प्रकार अगात मूंग, उड़द की तैयार फलियों की तुड़ाई करने और अतैयार मूंग व उड़द की फसल में पीला मोजैक रोग कि निगरानी की सलाह दी गई है।
बंगाल की खाड़ी पर बना गहरे दबाव का क्षेत्र चक्रवाती तूफान ‘यास’ में बदल गया है. इसके 26 मई को ओड़िशा-पश्चिम बंगाल के तटों से गुजरने का अनुमान है। एनडीआरएफ ने अपने बचाव दलों को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है कि ओड़िशा व बंगाल में लगे बड़े ऑक्सीजन संयंत्र तूफान के दौरान भी चलते रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *