कार से लोक जनशक्ति पार्टी का झंडा फाड़ते कार्यकर्ता। Image Source : screengrab from a video posted by @Mukesh_Journo

हाजीपुर में जनता ने पारस को खदेड़ दिया, गाड़ियों में तोड़फोड़, अभिनंदन छोड़ बीच में ही फूट लिये

Patna : लोक जनशक्ति पार्टी के असली वारिस अपने भतीजे चिराग पासवान को पदच्युत कर भले ही पशुपति कुमार पारस ने केंद्र में मंत्री पद हासिल कर लिया हो लेकिन अपने क्षेत्र हाजीपुर के लोगों के बीच पैठ बनाने और अपने कृत्य को सही साबित करने में असफल हो गये हैं। दिवंगत रामविलास पासवान के क्षेत्र हाजीपुर ने जहां चिराग पासवान को हाथोंहाथ लिया था। गली गली में लोग उमड़ आये थे, वहीं यहां के लोगों ने केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस को क्षेत्र से खदेड़ दिया है। जबकि इस क्षेत्र के वे सांसद हैं। न्यूज एजेंसी एएनआई के बिहार ब्यूरोचीफ मुकेश सिंह ने ट‍्वीट किया है- अपने संसदीय क्षेत्र हाजीपुर में अभिनंदन कराने गये पशुपति पारस का जबरदस्त विरोध, चिराग समर्थकों ने ऐसा हंगामा किया कि आभार यात्रा को बीच मे ही छोड़ना पड़ा। कई गाड़ियों में तोड़-फोड़ भी की गई। अपने ही संसदीय क्षेत्र में अभिनंदन नही करवा पाये तो दूसरी जगह क्या होगा ?

वैसे केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस पर हाजीपुर में एक महिला ने स्याही भी फेंक दी। उन पर यह हमला तब हुआ है जब वह केंद्रीय मंत्री बनने के बाद पहली बार हाजीपुर पहुंचे। उन पर स्याही फेंकने वाली महिला को उनके भतीजे चिराग पासवान का समर्थक बताया जा रहा है।
लोक जनशक्ति पार्टी के बागी धड़े का नेतृत्व कर रहे पशुपति कुमार पारस केंद्र में मंत्री बनने के करीब डेढ़ महीने बाद सोमवार को पटना पहुंचे थे। बारिश के कारण वह काफी देर तक फ्लाइट के अंदर रहे। उसके बाद जब वह बाहर आये तो सीधे कार में बैठ गये। मीडिया से बात नहीं की। पार्टी के बाकी सांसद, नेता और दलित सेना के सदस्य पहले से ही हवाई अड्डे पर उनका स्वागत करने के लिये मौजूद थे।
पारस का काफिला बेली रोड, कंकड़बाग और धानुकी मोड़ होते हुये सीधे हाजीपुर के लिये रवाना हुआ। बीच-बीच में उनका स्वागत किया गया। शेखपुरा मोड़ पर किसान मोर्चा और हड़ताली मोड़ पर पार्टी की महिला प्रकोष्ठ और आयकर गोलंबर के पास युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने स्वागत किया। केंद्रीय मंत्री बनने के बाद पशुपति कुमार पारस का यह पहला बिहार दौरा है। इससे पहले एक बार बिहार का दौरा तय होने के बाद टाल दिया गया था। उन्हें 20 अगस्त को ही आना था।
बहरहाल आज भतीजे चिराग पासवान के 5 जुलाई को पटना आने और हाजीपुर जाने में कार्यकर्ताओं का जो उत्साह दिखा था स्वागत के लिये, वह चाचा के स्वागत में नजर नहीं आया। हालांकि, प्रवक्ता ने दावा किया कि 500 ​​वाहनों का एक काफिला हाजीपुर जा रहा था। हाजीपुर संसदीय क्षेत्र के एनडीए के सभी विधायक भी यहां मौजूद थे।
नवादा के सांसद चंदन सिंह अपने नेता पशुपति कुमार पारस के स्वागत के लिये एयरपोर्ट पहुंचे थे। मीडिया ने सीधे सवाल किया कि चिराग पासवान के स्वागत के लिये जो भीड़ उमड़ी थी, वह आज की भीड़ नहीं है। जबकि इससे ज्यादा का दावा किया गया था। इस सवाल का जवाब सांसद चंदन सिंह ने दूसरे तरीके से दिया। इशारे में ही चिराग का रिश्ता राजद से जोड़ दिया।

 

सांसद ने कहा कि जो राजद के साथ रहेंगे, उनकी नैया डूब जायेगी। दूसरे सवाल का जवाब देते हुये चंदन ने कहा कि चिराग पासवान अभी भी लोजपा में हैं। हमने सिर्फ अपनी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष को बदला है। हर दो साल में नेतृत्व बदलता है। उनको बदलकर हमने क्या गलत किया है? वे हमारे साथ हैं। उनके प्रति कोई नाराजगी नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *