Image Source : Instagrammed by sonu_sood

“गरीबों के मसीहा” सोनू सूद के घर और ऑफिस में इनकम टैक्स का छापा, छह ऑफिस, घर में सर्वे

New Delhi : बॉलीवुड एक्टर और कोरोना काल में गरीबों के मसीहा बनकर उभरे सोनू सूद पर आयकर छापों की सूचना से समाज का एक बड़ा वर्ग अवाक है। आश्चर्यचकित लोगों को समझ नहीं आ रहा है कि ऐसा क्यों हो रहा है? लेकिन मौजूदा घटनाक्रमों पर गौर करें तो यह साफ हो जाता है कि सोनू सूद के अरविंद केजरीवाल सरकार के मेंटरशिप प्रोग्राम से जुड़ने का खामियाजा भुगतना पड़ रहा है। दिल्ली सरकार का मेंटरशिप प्रोग्राम स्कूली बच्चों के लिये चलाया जाने वाला एक विशेष कार्यक्रम है। लेकिन इससे जुड़ने के साथ ही कोरोना के उनके सारेअच्छे काम धुल गये हैं। कोरोनाकाल में उन्होंने न सिर्फ कई लोगों को उनके घर पहुंचाने की व्यवस्था की, बल्कि उन्हें दवाइयां, ऑक्सीजन सिलेंडर, मोबाइल जैसी चीजें भी पहुंचाईं। मीडिया रिपोर्ट‍्स के मुताबिक उनकी छह संपत्तियों पर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने सर्वे का काम शुरू किया है।

सोनू सूद पिछले कई दिनों से राजनीति में आने की खबरों को लेकर सुर्खियों में हैं। हालांकि, अभिनेता ने बहुत पहले ही स्पष्ट कर दिया कि उन्हें राजनीति में प्रवेश करने में कोई दिलचस्पी नहीं है। इस बीच, उनकी संपत्तियों पर आयकर विभाग के छापों ने सबको आश्चर्यचकित कर दिया है। NDTV की एक रिपोर्ट के मुताबिक सोनू सूद की 6 संपत्तियों का सर्वे किया जा रहा है।
सोनू सूद महामारी से लोगों की मदद के लिये चर्चा में रहे थे। अपने नेक कामों के लिये उन्हें आम लोगों के साथ-साथ कई मशहूर हस्तियों से भी प्रशंसा मिली है। सोनू सूद आज भी सोशल मीडिया के जरिये मदद मांगने वाले लोगों को जवाब देते और उनकी मदद करते नजर आते हैं।
इनकम टैक्स ऑफिसर फिलहाल एक्ट्रेस से सामाजिक कार्यकर्ता बने सोनू सूद के मुंबई स्थित आवास पर हैं। NDTV की एक रिपोर्ट के अनुसार अधिकारी वर्तमान में सोनू सूद से जुड़े छह स्थानों का ‘सर्वेक्षण’ कर रहे हैं, जिसमें उनका मुंबई में घर और कार्यालय भी शामिल है।
यह पहली बार नहीं है जब अभिनेता के घर पर आईटी अधिकारियों ने छापा मारा है। 2012 में इनकम टैक्स विभाग ने संजय दत्त, सोनू निगम और सोनू सूद के घर पर छापा मारा था, जब सोनू सूद ने 30 करोड़ रुपये की संपत्ति खरीदी थी। पिछले महीने, दिल्ली सरकार ने घोषणा की थी कि सोनू सूद को उनके ‘देश का मेंटर’ कार्यक्रम के ब्रांड एंबेसडर के रूप में चुना गया है।
आम आदमी पार्टी ने यह भी घोषणा की थी कि दिल्ली सरकार जल्द ही देश में “सबसे प्रगतिशील” फिल्म नीति लेकर आयेगी जो मनोरंजन उद्योग को बड़े पैमाने पर बढ़ावा देगी। केजरीवाल और सोनू सूद दोनों ने तब कहा था कि उनकी मुलाकात के दौरान राजनीति पर कोई चर्चा नहीं हुई।
फिलहाल तो बाहर से देखने पर ऐसा लग रहा था कि सभी दलों के लोगों के साथ सौहार्दपूर्ण संबंध हैं। सत्ताधारी पार्टी के आलोचकों ने सोनू सूद के परिसर में टैक्स ऑपरेशन पर नाराजगी और हैरानी जताई। आप नेता राघव चड्ढा ने कहा है- सोनू सूद जैसे ईमानदार व्यक्ति पर एक आईटी छापेमारी, जिसे लाखों लोगों द्वारा मसीहा कहा गया है, जिसने दलितों की मदद की है। उनके जैसे व्यक्ति को एक अच्छी सोच में राजनीतिक रूप से टार्गेट किया जा सकता है, यह सोचकर भी आश्चर्य लगता है।

शिवसेना नेता आनंद दुबे ने कहा- मैं स्तब्ध हूं। सोनू सूद ने जिस तरह से लाखों लोगों की मदद की है, ऐसे में इनकम टैक्स वालों ने छापा कैसे मारा? क्या कोई विश्वास करेगा कि उसने कुछ गलत किया होगा इनकम टैक्स में? मुझे नहीं लगता कि वह कुछ भी अवैध कर सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *