PM मोदी का बड़ा ऐलान, नया वर्ल्ड रिकॉर्ड बनेगा, भारत में सबसे बड़ा अन्न भंडार बनेगा

प्रधानमंत्री मोदी ने योजना की शुरुआत की, 18 हजार पैक्स के कंप्यूटरीकरण का भी शुभारंभ, सबसे बड़ा अन्न भंडार बनेगा :

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को दुनिया की सबसे बड़ी भंडारण योजना की शुरुआत की। इसके तहत उन्होंने 11 राज्यों में प्राथमिक कृषि ऋण समितियों (पैक्स) में अनाज भंडारण के लिए 11 गोदामों का उद्घाटन किया। साथ ही 18 हजार पैक्स के कंप्यूटरीकरण का भी शुभारंभ किया।

मोदी ने भारत मंडपम में सभा को संबोधित करते हुए कहा कि सहकारी क्षेत्र एक लचीली अर्थव्यवस्था को आकार देने और ग्रामीण क्षेत्रों के विकास को रफ्तार देने में सहायक है। आज हमने अपने किसानों के लिए दुनिया की सबसे बड़ी भंडारण योजना शुरू की है। इसके तहत देशभर में हजारों वेयरहाउस और गोदाम बनाए जाएंगे। इससे 700 लाख टन भंडारण क्षमता बनाई जाएगी। मोदी ने इस बात पर अफसोस जताया कि देश में भंडारण बुनियादी ढांचे की कमी के कारण किसानों को भारी नुकसान हो रहा है।

पैक्स के जरिए समस्या हल कर रहे मोदी ने कहा, पिछली सरकारों ने इस समस्या पर कभी ध्यान नहीं दिया, मगर आज पैक्स के जरिए इस समस्या को हल किया जा रहा है। दुनिया के सबसे बड़े खाद्यान्न भंडारण कार्यक्रम के तहत अगले पांच वर्षों में भंडारण क्षमता बढ़ाई जाएगी।

किसान सक्षम बनेंगे पीएम ने कहा, विशाल भंडारण सुविधाओं के निर्माण से किसान अपनी उपज को गोदामों में रखने, इसके बदले संस्थागत ऋण लेने और अच्छी कीमत हासिल करने में सक्षम होंगे।

सहकारी समितियों को मजबूत किया जा रहा सहकारी समितियों की चुनाव प्रणाली में पारदर्शिता लाने के महत्व पर जोर देते हुए उन्होंने कहा कि इससे सहकारी आंदोलन में लोगों की भागीदारी को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा कि एक अलग मंत्रालय के माध्यम से देश में सहकारी समितियों को मजबूत करने का प्रयास किया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने जोर देकर कहा कि सहकारिता के इस नए मंत्रालय के माध्यम से सरकार का लक्ष्य भारत के कृषि क्षेत्र की बिखरी ताकतों को एक साथ लाना है।

उन्होंने कहा कि बहु-राज्य सहकारी सोसायटी अधिनियम में संशोधन किया गया है और पैक्स का कम्प्यूटरीकरण किया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने देशभर में 18 हजार पैक्स के कम्प्यूटरीकरण के लिए एक परियोजना का भी उद्घाटन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *