तेज प्रताप और तेजस्वी। Image Source : tweeted by @TejYadav14/ @yadavtejashwi

जगदानंद ने पूछा- तेज प्रताप कौन हैं? बिफरे तेज- कार्रवाई नहीं होगी तो केस करूंगा, पार्टी कार्यक्रम में नहीं जाऊंगा

Patna : राष्ट्रीय जनता दल में अब खुला खेल फरुखाबादी हो गया है। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के लाल तेज प्रताप यादव खुले तौर पर सामने आ गये हैं। उन्होंने पार्टी अध्यक्ष जगदानंद सिंह के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। इस मसले को लेकर आज शाम उन्होंने प्रेस कान्फ्रेन्स भी किया। उन्होंने कहा कि जगदानंद सिंह ने जो किया है वो पार्टी संविधान के खिलाफ है। उन्होंने राष्ट्रीय ध्वज का भी अपमान किया है। पार्टी अगर उन पर कार्रवाई नहीं करेगी तो मैं उन पर केस कर दूंगा। यही ने मीडियो से बात करने से पहले तेज प्रताप ने एक ट‍्वीट कर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के सलाहकार संजय यादव को प्रवासी पक्षी करार देते हुये कहा कि वह जिनके सलाह पर पार्टी में कार्रवाई हो रही है वो हरियाणा में सरपंच के एक प्रत्याशी को भी नहीं जिता सकते हैं।

इधर राजद नेता तेजस्वी यादव ने गुरुवार को कहा- हम हैं, लालू जी हैं, सब ठीक हो जायेगा। उन्होंने आश्वासन दिया कि बिहार के राजद प्रमुख जगदानंद सिंह द्वारा तेज प्रताप के करीबी सहयोगी आकाश यादव को बर्खास्त करने के बाद पार्टी और उनके भाई तेज प्रताप यादव के बीच दरार का दावा करने वाली खबरों के बीच सब कुछ ठीक हो जायेगा। छात्रसंघ के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. आकाश यादव को हटाने का फैसला लेने के बाद से तेजप्रताप जगदानंद सिंह पर आक्रामक हो गये हैं।
तेजस्वी यादव ने संवाददाताओं से कहा- सबकी अलग-अलग राय है। मैं केवल इतना कहना चाहता हूं कि अगर मैं यहां हूं, तो राज्य के पार्टी प्रमुख यहां हैं, सब कुछ ठीक हो जायेगा। सब कुछ ठीक हो जाएगा। मैं इस पर ज्यादा कुछ नहीं कहना चाहता। हम अपना काम कर रहे हैं। राजद में तनातनी की खबरों पर प्रतिक्रिया देते हुए जनता दल (यूनाइटेड) के नेता संजय सिंह ने कहा- तेज प्रताप आहत हैं क्योंकि कोई भी उनकी पार्टी नहीं है जो उन्हें महत्व देता है। यह कुर्सी की लड़ाई है। दोनों लालू प्रसाद यादव के बेटे हैं और चूंकि किसी को महत्व नहीं दिया जाता है, वह आहत रहता है।
राजद में आंतरिक कलह और वाकयुद्ध के बीच बिहार पार्टी प्रमुख जगदानंद सिंह ने पूछा – तेज प्रताप कौन हैं? जगदानंद ने गुरुवार को कहा – तेज प्रताप की पार्टी संगठन में कोई भूमिका नहीं है और इसलिये उनका कोई महत्व नहीं है। मैं पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष हूं और मेरी जिम्मेदारी हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद के प्रति है। मुझे नहीं पता कि तेज प्रताप यादव कौन हैं। वह पार्टी के संगठन में कोई पद नहीं रखते हैं। मेरे लिये वह पार्टी के 75 विधायकों में से सिर्फ एक हैं।

 

इसका जवाब देते हुए तेज प्रताप ने कहा – जगदानंद सिंह के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिये। उन्होंने सिंह के खिलाफ कार्रवाई शुरू नहीं करने पर अदालत जाने की धमकी दी और कहा कि वह उस समय तक किसी भी पार्टी गतिविधि में भाग नहीं लेंगे। राजद बिहार अध्यक्ष जगदानंद सिंह सोचते हैं कि यह उनकी पार्टी है। पार्टी के संविधान का पालन नहीं किया गया, हमारे छात्र नेताओं को कोई नोटिस क्यों नहीं जारी किया गया? ‘तेज प्रताप यादव कौन है’ कहकर, क्या वह हमें ब्लैकमेल करने की कोशिश कर रहे हैं? वे सिर्फ हमारी ‘कृष्ण-अर्जुन जोड़ी’ को तोड़ना चाहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *