तेजस्वी यादव और जगदानंद सिंह। Image Source : tweeted by @yadavtejashwi, @jagdanandsingh2

जगदानंद बोले- जींस पहननेवाले राजनीति नहीं कर सकते, राजद गरीब गुरबों की पार्टी है

Patna : राष्ट्रीय जनता दल (राजद) में जींस पहनने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। इसके लिये कोई लिखित आदेश जारी नहीं किया गया है, लेकिन जब प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने सार्वजनिक रूप से कहा कि जींस पहनने वाले कभी राजनीति नहीं कर सकते, तो इसका मतलब यह निकाला जा रहा है कि जींस पहनने वालों का राजद में भला नहीं हो सकता है। यह बात अलग है कि पार्टी नेता और बिहार में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव लगातार तो नहीं लेकिन नियमित रूप से जींस टीशर्ट पहनते हैं। लालू के लाल तेज प्रताप भी यदाकदा जींस में दिख जाते हैं। संभव है, यह तंज भी हो, क्योंकि 31 जुलाई को तेजस्वी यादव जींस पैंट और टी शर्ट में दिखे थे और अपनी तस्वीर ट‍्विटर पर भी शेयर की थी। अब आनेवाले समय में देखना दिलचस्प होगा कि जगदानंद किस पर इशारों ही इशारों में वार कर गये।

जातीय जनगणना की मांग को लेकर प्रदर्शन के दौरान जगदानंद सिंह ने युवा कार्यकर्ताओं से कहा- हमारी पार्टी गरीबों की पार्टी है, किसानों की पार्टी है, संघर्ष करने वालों की पार्टी है। जींस पहनकर आप कभी लीडर नहीं बन पायेंगे। जो धरने पर नहीं बैठे हैं वे आरएसएस के कार्यकर्ता हैं और हमारे जुलूस में शामिल हुये हैं। उन्होंने कहा- क्या आप फिल्म की शूटिंग करने आये हैं? राजनीति करने आये हैं तो धरने पर बैठ जाइये। आंदोलन करना सीखें, युवा नेताओं के लिये प्रशिक्षण का समय है। हमारे अधिकार छीन लिये गये हैं इसलिए हमें लंबी लड़ाई लड़नी है।
जाति आधारित जनगणना कराने, मंडल आयोग की शेष सिफारिशों को लागू करने और आरक्षण के दायरे में बैकलॉग सीटों को भरने की मांग को लेकर राजद की ओर से शनिवार को जुलूस निकाला गया। इनकम टैक्स चौराहे पर जुलूस को पुलिस ने रोक लिया और जगदानंद सिंह सड़क पर धरने पर बैठ गये लेकिन पार्टी के कई युवा नेताओं को सड़क पर बिठाने के लिये उन्हें काफी मशक्कत करनी पड़ी। उन्होंने सलाह देना शुरू कर दिया और कहा- तुम सिर्फ फोटो खिंचवाने के चक्कर में रहते हो, बैठ जाओ, नहीं तो हम मान लेंगे कि तुम सब राष्ट्रीय जनता दल के कार्यकर्ता नहीं हो। अब्दुलबारी सिद्दीकी, उदय नारायण चौधरी, वृषण पटेल, श्याम रजक, आलोक मेहता आदि कई वरिष्ठ नेताओं के साथ जगदानंद सिंह के साथ अन्य कार्यकर्ता भी धरने पर बैठ गये।

जगदानंद सिंह पूर्व मंत्री रह चुके हैं। अनुशासन में रहें और पार्टी के बाकी कार्यकर्ताओं से अनुशासन का पालन करने की अपेक्षा करें। उन्होंने पार्टी कार्यालय में भी अनुशासन लाया है और यह संगठन के स्तर पर दिखाई देता है। हालांकि इससे कई बार कर्मचारियों को परेशानी भी होती है। ऐसी स्थिति आ गई थी कि रघुवंश बाबू ने राजद कार्यालय को डीएम कार्यालय के नाम से पुकारने लगे थे। पूर्व मंत्री तेज प्रताप यादव ने पार्टी के स्थापना दिवस पर जगदानंद सिंह पर निशाना साधा था। एक बार तो उन्होंने जगदानंद सिंह की जगह नया प्रदेश अध्यक्ष लाने की मांग भी उठाई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *