‘कन्हैया जेएनयू पास, तेजस्वी 9वीं फेल’, तालमेल से पहले ही जदयू ने ऐसे बयानों से शुरू किया खेल

पटना
बिहार के आगामी विधानसभा चुनावों में वाम दलों ने महागठबंधन का साथ देने का फैसला किया है। हालांकि इसकी रूपरेखा अभी तय नहीं हुई है। लेकिन इस साथ ने बिहार की राजनीति में जो सबसे बड़ी चर्चा खड़ी की है वो कन्हैया और तेजस्वी को लेकर है। ऐसी संभावनाएं बन रही हैं कि ये दो युवा चेहरे अगर एक साथ आते हैं तो बिहार की राजनीति एक बड़े बदलाव को भी देख सकती है। इन राजनीतिक संभावनाओं ने एनडीए के घटक दलों को भी अलर्ट कर दिया है। यही वजह है कि जदयू और भाजपा ने खुलकर इस नई राजनीतिक संभावना के खिलाफ बयानबाजी करनी शुरू कर दी है।

 

इस शीर्षक को जो आप पढ़ रहे हैं, दरअसल ये जदयू प्रवक्ता संजय सिंह का बयान है। संजय सिंह ने कहा है कि कन्हैया जेएनयू से पास हुए हैं और तेजस्वी 9वीं फेल हैं, दोनों का कोई मेल नहीं है। उन्होंने चुनाव पूर्व यहां तक दावा कर दिया है कि सामने चाहे जो आ जाए, बिहार की जनता नीतीश कुमार को ही जिताएगी। जेडीयू की सहयोगी पार्टी बीजेपी तो बयानबाजी के मामले में एक कदम और आगे तक चली गई है। बीजेपी नेता निखिल आनंद ने तेजस्वी और कन्हैया में से एक को परिवारवादी और दूसरे को फर्जी समाजवादी ठहरा दिया है।

भाजपा कह रही है कि तेजस्वी को खत्म करने की साजिश के तौर पर कन्हैया को लाया गया है। आपको बता दें कि तेजस्वी और कन्हैया, दोनों ही एनडीए के शासन को लेकर काफी मुखर रहे हैं। एक तरह तेजस्वी यादव जहां बिहार में नीतीश सरकार के खिलाफ मुख्य चैलेंजर के तौर पर उभरकर सामने आए हैं, वहीं कन्हैया ने छात्र समुदाय के बीच मोर्चा संभाल रखा है। ऐसे में इन दोनों युवाओं का बिहार में एक मंच पर सत्ताधारी दलों को चुनौती देना काफी रोचक हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *