मीडिया से बात करने के दाैरान एकता प्रदर्शित करते कन्हैया कुमार, जिग्नेश मवानी और हार्दिक पटेल। Image Source : IANS

कन्हैया बोले- एक राहुल गांधी ही हैं जो तहेदिल से बिना पारिवारिक पृष्ठभूमि वाले हमारे जैसे नेता का तहेदिल से स्वागत करते हैं

Patna : बिहार में उपचुनाव के बहाने ही सही लेकिन महागठबंधन की लड़ाई सतह पर दमदार ढंग से दिखने लगी है। इस लड़ाई को और दिलचस्प बना दिया है कन्हैया कुमार ने जो कांग्रेस में शामिल होने के बाद पहली बार शुक्रवार को पटना पहुंचे।
कन्हैया कुमार के साथ गुजरात कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष हार्दिक पटेल और विधायक जिग्नेश मेवाणी भी हैं। तीनों का स्वागत प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा ने कांग्रेस प्रदेश कार्यालय सदाकत आश्रम में किया। इसके बाद प्रेस वार्ता में कन्हैया कुमार ने कहा कि बिहार की भूमि श्रम की भूमि है। कड़ी मेहनत के आदर्श दशरथ मांझी हैं। गुजरात में पैदा हुये मोहनदास करमचंद गांधी को बिहार ने महात्मा बनाया था।

हार्दिक पटेल ने दावा किया- बिहार से दिल्ली तक तख्तापलट होगा और 2024 में केंद्र, 2025 में बिहार में कांग्रेस की सरकार बनेगी। उन्होंने कहा कि देश की एकता को ठेस पहुंची है। बिहार को पुनर्जीवित करना होगा। जो पार्टी इस देश को आजादी दिला सकती है, वही पार्टी इसे बचा भी सकती है। सामाजिक न्याय के साथ-साथ सामाजिक एकीकरण बहुत महत्वपूर्ण है।
कन्हैया कुमार ने कांग्रेस में शामिल होने के सवाल पर इशारों ही इशारों में तेजस्वी पर भी हमला बोल दिया। उन्होंने कहा- राहुल गांधी देश के इकलौते नेता हैं जो हम जैसे नेताओं का हाथ बढ़ा कर स्वागत करते हैं। हम जैसे नेताओं की कोई पारिवारिक पृष्ठभूमि नहीं है। ऐसे नेता नहीं हैं जो पिता से मिली संपत्ति हथियाने में ही सबसे दूरी बनाकर रखते है।
कांग्रेस में समस्या के सवाल पर कन्हैया ने कहा कि जब कोई एक परिवार को छोड़कर दूसरे परिवार में जाता है तो लोग कहते हैं कि नये परिवार में तालमेल बिठाने में दिक्कत है, लेकिन मुझे कांग्रेस में कोई दिक्कत नहीं है। सभी चेहरे जाने-पहचाने हैं।
उन्होंने कहा कि लोग प्रदेश प्रभारी भक्त चरण दास की बात करते हैं। भक्त चरण दास की वजह से कन्हैया, जिग्नेश मेवाणी आज कांग्रेस में हैं। कांग्रेस ने भक्त चरण दास की वजह से वेदांता का 50 हजार करोड़ का प्रोजेक्ट बंद कर दिया था। वे आदिवासियों की जमीन के लिये लड़ रहे थे। कांग्रेस उनका सम्मान करती है। इस दौरान कन्हैया ने तेजस्वी यादव का नाम लिए बगैर उन्हें घमंडी करार दिया। उन्होंने रामधारी सिंह दिनकर की कविता पढ़कर अपनी बात कही।

हार्दिक पटेल ने कहा कि बिहार ने जब भी बात की है, दिल्ली में तख्तापलट हुआ है। बिहार से पहले गुजरात में चुनाव होने हैं। गुजरात की जनता नरेंद्र मोदी और अमित शाह को जवाब देगी। जब तक हम लोगों के हित के लिये नहीं लड़ेंगे, देश में विकास संभव नहीं होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *