किसान आंदोलन को लेकर हरियाणा हाई कोर्ट का फैसला, नेशनल हाईवे पर ट्रैक्टर लाने से किया मना

हाईवे पर ट्रैक्टर-ट्रॉली नहीं ला सकते, कर्तव्य भी निभाएं लोग :केंद्र के साथ वार्ता विफल होने के बाद किसानों ने बुधवार को दिल्ली कूच का ऐलान किया है। इस बीच पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट ने कहा कि लोग हाईवे पर ट्रैक्टर-ट्रॉली नहीं ला सकते। अदालत ने कहा कि किसानों को विरोध का अधिकार है, लेकिन कुछ संवैधानिक कर्तव्य भी होते हैं। विरोध उचित प्रतिबंधों के साथ होना चाहिए।

पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट के कार्यवाहक मुख्य न्यायधीश जीएस संधावालिया और न्यायमूर्ति लपिता बनर्जी की पीठ ने ये टिप्पणी की। अदालत आंदोलन की राह में सरकार द्वारा खड़ी की गई अड़चन और किसानों के प्रदर्शन के खिलाफ तत्काल कार्रवाई करने से जुड़ी याचिकाओं पर सुनवाई कर रही थी। कार्यवाहक मुख्य न्यायधीश ने मौखिक रूप से पंजाब सरकार से कहा कि वो ये आश्वस्त करें कि बड़ी संख्या में लोग जमा न हो पाएं।

कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश ने टैक्टर और ट्रॉली से आ रहे किसानों पर भी आपत्ति जताई। उन्होंने कहा कि मोटर वाहन अधिनियम के तहत आप हाईवे पर ट्रैक्टर और ट्रॉली का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं। आप अपने ट्रैक्टर और ट्रॉली से अमृतसर से दिल्ली जा रहे हैं। हर कोई अधिकारों के बारे में जानता है लेकिन संवैधानिक कर्तव्य भी होते हैं।

दिल्ली की सीमाओं पर अभूतपूर्व सुरक्षा

किसानों के दिल्ली कूच के ऐलान के मद्देनजर राजधानी की सीमाओं पर सुरक्षा व्यवस्था बेहद कड़ी कर दी गई है। सुरक्षाबलों ने बैरिकेड, बोल्डर और कंटेनर से बॉर्डर पर दीवार खड़ी कर दी गई है। ड्रोन से पूरे इलाके पर लगातार नजर रखी जा रही है। कई मार्गों में बदलाव किया गया है। हरियाणा से जुड़े तीन बॉर्डर – सिंघु, टीकरी, ढासा को पूरी तरह से बंद कर दिया गया है। दिल्ली के सभी बॉर्डर पर बड़ी संख्या में सुरक्षाबलों की तैनाती की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *