कार्यक्रम को संबोधित करते राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद। Image Source : facebook.com/tejashwiyadav/

इमोशनल हुये लालू, बोले- मिट जाउंगा लेकिन न मैं कभी झुका था, न झुकूंगा, तेजस्वी को बिहार ने नेता मान लिया है

Patna : राष्ट्रीय जनता दल के 25वें स्थापना दिवस समारोह में पार्टी प्रमुख लालू प्रसाद ने वर्चुअली सबको संबोधित किया। उन्होंने इमोशनल भाषण देते हुये कहा- वे हमारी सरकार को जंगलराज कहते हैं। हमने तो तवा पर एकतरफा पकी हुई रोटी को पलटकर उसे दूसरे साइड से भी सेंक दिया। हमारा राज जंगलराज नहीं जनराज रहा। चरवाहा स्कूल एक संदेश था कि पेट भरने के साथ-साथ सबकी शिक्षा का भी इंतजाम करो। मैं लोगों को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि हम मिट जायेंगे लेकिन झुकेंगे नहीं। बिहार चुनाव में शामिल होने का इतना मन था। हम तड़पते रहे। पर शामिल नहीं होने दिया। अफसोस है कि मेरी अनुपस्थिति में ही चुनाव हुआ लेकिन तेजस्वी ने वादा किया था कि चिंता मत करिये पापा हम सबसे निपट लेंगे। तेजस्वी ने अच्छा किया। उससे लगातार बात होती रही। उन्‍होंने अपनी गैरहाजिरी में पार्टी सम्‍भालने के लिए अपने बेटे तेजस्‍वी यादव की तारीफ भी की।

उन्‍होंने राष्‍ट्रीय जनता दल के गठन से लेकर अभी तक के संघर्ष के बारे में विस्‍तार से अपनी बात रखते हुये कहा कि रामकृष्‍ण हेगड़े के परामर्श से पार्टी का नाम राष्‍ट्रीय जनता दल रखा गया था। पार्टी के स्‍थापना काल से लगातार संघर्ष कर रहे हैं। समाजवादियों ने संघर्ष छेड़ा कि मंडल कमीशन लागू करो। उस समय की सरकार ने गाड़ी रोककर रास्ते में कुटाई कराई, फिर हम लोग दिल्ली पहुंचे। नारा बुलंद किया कि मंडल कमीशन लागू करो। इंडिया गेट से हमलोगों को गिरफ्तार कर लिया गया। हालांकि, बाद में रिहा कर दिया गया।
तेज प्रताप यादव और तेजस्वी की तारीफ करते हुये कहा कि तेज प्रताप ने बहुत अच्छा भाषण दिया। उसकी बातों में दम है। तेजस्वी को बहुत कम उम्र में बिहार ने अपना नेता मान लिया है। वे बहुत बढ़िया काम कर रहे हैं। सरकार पर हमला बोलते हुए लालू ने कहा- ‘देश में आर्थिक संकट है। सामाजिक ताने-बाने को खत्म किया जा रहा है। अयोध्या के बाद मथुरा… ये क्या नारा है। देश में क्या चाहते हैं? सत्ता के लिये लोगों को देश में तबाह करना चाहते हैं। संसद भी नहीं चल पाती है।
पार्टी के कार्यक्रम में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा कि लालू प्रसाद न कभी झुके थे, ना झुकेंगे। उसी तरह तेजस्वी यादव भी कभी नहीं झुकेगा। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में बेरोजगारी के मुद्दे पर बहुत बड़ा आंदोलन करेंगे। लालू प्रसाद ने सामाजिक न्याय की लड़ाई लड़ी, वह आर्थिक न्याय के सवाल पर आंदोलन करेंगे। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार के मंत्री और विधायक ही सरकार पर आरोप लगा रहे हैं।
लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने कहा- जिस समय पार्टी की स्थापना हुई थी, हम सभी बच्चे थे। जिस बीएन कॉलेज में मेरे पिताजी पढ़ते थे, उसी बीएन कॉलेज में मैंने एडमिशन लिया और उसी बेंच पर बैठना शुरू किया। हम जब बोलते हैं तो बहुत सारे लोग हमारा मजाक उड़ाते हैं। हमारे पिताजी के भाषण का भी लोग मजाक उड़ाते थे।

राज्यसभा सांसद और राजद के प्रवक्ता मनोझ झा ने स्थापना दिवस पर संकल्प पत्र पढ़ा। कहा- हम गैर लोकतांत्रिक शक्तियों को खत्म करने का संकल्प लेते हैं।’ वहीं, ​​​​​​राजद नेता शिवानंद तिवारी ने नीतीश कुमार की तुलना बहादुर शाह जफर से की। उन्होंने कहा कि जफर की पूरी मिल्कियत लाल किले के अंदर तक थी। नीतीश कुमार एक अणे मार्ग तक सीमित हो गये हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *