आखिरकार लालू प्रसाद यादव से रहा नहीं गया, खुद संभाला मोर्चा, तेज प्रताप भी हुए तलब

पटना

बिहार के पूर्व सीएम लालू प्रसाद यादव को इस वक्त जेल में रहना काफी अखर रहा होगा। वजह यह है कि चुनाव जो नजदीक आ रहे हैं। वैसे लालू जेल से भी राजनैतिक बिसात बिछा सकते हैं लेकिन इस बार कठिनाई कुछ अलग तरह की है। दरअसल हम बात कर रहे हैं रघुवंश प्रसाद सिंह की नाराजगी और आरजेडी से उनके इस्तीफे की। ये मामला सुलटने की बजाय और तेजी से उलझता ही जा रहा है। इसको और भी सुलगाने का काम किया है तेज प्रताप यादव और रामा सिंह ने। अभी तेज प्रताप के लोटे वाले बयान की आंच कम नहीं हुई थी कि रामा सिंह ने भी कह दिया कि रघुवंश प्रसाद सिंह के जाने का कोई असर नहीं पड़ेगा। 

लगता है कि आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को इसी एक पॉइंट पर लग गया कि अब मामले में एंट्री नहीं मारी तो गड़बड़ी हो जाएगी। अब खबर आ रही है कि लालू प्रसाद यादव पर्सनली रघुवंश प्रसाद सिंह के मामले को हैंडल कर रहे हैं। इसी बीच तेज प्रताप को भी मिलने के लिए रांची बुलाया गया है। ऐसा बताया जा रहा है कि लालू बेटे के बयान को लेकर नाराज हैं। इस बीच जेडीयू पूरे माहौल का न केवल मजा ले रही बल्कि पार्टी प्रवक्ता राजीव रंजन ने तो यहां तक कह दिया है कि अगर रघुवंश प्रसाद सिंह आते हैं तो पार्टी में उनका स्वागत है। 

तेजस्वी की कोशिश हो चुकी है नाकाम?

पिछले दिनों खबर आई थी कि पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव खुद रघुवंश प्रसाद सिंह का हाल-चाल लेने पहुंचे थे। मीडिया रिपोर्ट्स का दावा है कि इस दौरान तेजस्वी ने उन्हें मनाने की कोशिश की लेकिन रघुवंश बाबू नहीं माने। हालांकि राजनीति के मंझे हुए खिलाड़ी रघुवंश प्रसाद सिंह ने इस बात से साफ इनकार कर दिया है कि उनके तेजस्वी के बीच कोई राजनीतिक चर्चा हुई थी। 

रघुवंश प्रसाद सिंह ने यह भी कहा है कि अभी उनकी तबीयत ठीक नहीं है। ऐसे में उनके मामले को लेकर राजनीति करना ठीक नहीं। परोक्ष रूप में ये जदयू को दी जा रही सलाह जैसी लग रही है। हालांकि लालू और रघुवंश प्रसाद सिंह का साथ आरजेडी की स्थापना से भी पुराना है। ऐसे में उनकी नाराजगी दूर करने के लिए खुद लालू का सक्रिय होना अपने में एक बड़ा संदेश है। वैसे इस राजनीतिक घटनाक्रम का पटाक्षेप कब होगा ये तो अभी तय नहीं लेकिन इतना जरूर है कि आपसी फूट की वजह से राजद को नुकसान जरूर उठाना पड़ सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *