लालू प्रसाद, मुलायम सिंह यादव और अखिलेश प्रसाद के साथ चाय पीते हुये। Image Source : facebook.com/yadavakhilesh

जागा जोश पुराना : सक्रिय हो गये लालू, मुलायम से जाकर खुद मुलाकात की, कहा- चलो मैदान में

New Delhi :

उधर खड़ी थी लक्ष्मीबाई, और पेशवा नाना था।
इधर बिहारी वीर बाँकुरा, खड़ा हुआ मस्ताना था ॥
अस्सी वर्षों की हड्डी में जागा जोश पुराना था।
सब कहते हैं कुंवर सिंह भी बड़ा वीर मर्दाना था ॥

मनोरंजन प्रसाद सिंह की यह कविता वैसे तो बाबू वीर कुंवर सिंह की गाथा कहती है लेकिन आज के समय में तृणमूल कांग्रेस की ममता बनर्जी (लक्ष्मीबाई), राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के शरद पवार (नाना पेशवा), राष्ट्रीय जनता दल सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (बाबू वीर कुंवर सिंह) को लेकर बेहद सटीक बैठती है। जिस तरह से पिछले कुछ दिनों में विपक्ष के इन नेताओं ने अपनी सक्रियता दिखाई है वो बेहद आश्चर्यजनक है। सभी एकसाथ एक बार में सक्रिय हो गये हैं। नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ बिगुल फूंकने लगे हैं। दस बरस की जेल काटकर लौटे इनोला के ओमप्रकाश चौटाला भी चुनौती दे रहे हैं।

अभी तक बेहद खराब स्वास्थ्य के शिकार रहे लालू प्रसाद यादव बेहद सक्रिय हो गये हैं। पिछले ही हफते उन्होंने एनसीपी नेता शरद पवार और बाकी नेताओं से मिलकर अपनी सक्रियता बढ़ाने के संकेत दिये थे और आज वे पुराने लुक में उजला कुर्ता पैजामा पहनकर लखनऊ में समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव से मिलने पहुंच गये। मौके पर उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और मुलायम के बेटे अखिलेश प्रसाद भी मौजूद थे। तीनों की मुलाकात बेहद लंबी चली। इस मुलात के दौरान लालू प्रसाद यादव पर बीमारी का कोई शिकन नहीं था। वे फ्रेस दिख रहे थे और मुलायम सिंह यादव को भी सक्रियता बढ़ाने की नसीहत दे रहे थे। लालू ने संकेत दे दिया कि 2024 के लोकसभा चुनाव में वे बहुत ज्यादा सक्रिय होने वाले हैं और मोदी भाजपा के लिये मुश्किलें बढ़ाने के हर उपाय करेंगे।
ऐसा माना जा रहा है कि राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद कांग्रेस के नेतृत्व में तीसरा मोर्चा बनाये जाने के पक्ष में हैं। और वे सभी सहयोगियों से इस मसले पर बातचीत कर रहे हैं। उनकी स्पष्ट राय है कि बिना कांग्रेस के विपक्षी मोर्चा का गठन आज के समय में संभव नहीं हो सकता है। इन सभी सक्रियताओं के बीच ही जनता दल यूनाइटेड के नीतीश कुमार भी बेहद सक्रिय हो गये हैं। भाजपा के दो सहयोगी इनोला के प्रमुख ओम प्रकाश चोटाला और जनता दल यूनाइटेड के नीतीश कुमार ने आपसी मुलाकात कर भाजपा के लिये सिरदर्द बढ़ा दिया है। खासकर इसलिये भी ओम प्रकाश चौटाला ने मोदी सरकार के खिलाफ सीधा मोर्चा खोल दिया है। इस आग में घी का काम कर गया है जदयू नेता उपेंद्र कुशवाहा का यह बयान कि नीतीश कुमार पीएम मेटेरियल हैं।
संकेत साफ हैं कि जहां विपक्षी बहुत तेजी से भारतीय जनता पार्टी और मोदी सरकार के खिलाफ लामबंदी कर रहे हैं। वहीं दूसरी ओर भाजपा के पुराने सहयोगी भी शर्तों के साथ गठबंधन को लीड करने के प्रयासों में लगे हैं। यह बात तो तय है कि अगर भाजपा को घटक दल साथ रखने हैं तो उसे अभी बहुत कुछ सहना होगा। देखना दिलचस्प होगा कि नरेंद्र मोदी और अमित शाह की जोड़ी बहुत कुछ सहने के मूड में है या नहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *