लालू प्रसाद यादव की फाइल फोटो। Image Source : Agencies

लालू बोले- जीते जी दवा, ऑक्सीजन, बेड, इलाज नहीं : मरने पर कफन नसीब नहीं, कुत्ते नोच रहे शव

New Delhi : बहुत दिनों बाद बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राजद के सर्वेसर्वा लालू प्रसाद केंद्र सरकार पर टूट पड़े हैं। कोरोना में केंद्र सरकार और राज्य सरकारों की नाकामी का हवाला देते हुए कहा है कि जीते जी तो लोगों को भारत में सम्मान नहीं ही मिल रहा था। अब मरने के बाद भी सम्मान नहीं है। हमारा देश कभी ऐसा नहीं था। जो चला गया उसको तो सम्मान दे सरकार। विधि विधान से अंत्येष्टि करे। उन्होंने गंगा नदी में मिल रहे गड़े गले, अधजले शवों पर केंद्र सरकार को घेरा है। बक्सर, गाजीपुर, छपरा और आसपास के बिहार उत्तर प्रदेश बार्डर पर गंगा नदी में बड़ी संख्या में विघटित और आधे जले हुए शव मिले हैं। लालू प्रसाद ने इस मुद्दे पर सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि जीते जी उनका इलाज तक नहीं हुआ और उनकी मृत्यु के बाद उन्हें कफ़न भी नसीब नहीं हुआ।

राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने ट्वीट किया है- जीते जी दवा, ऑक्सीजन, बेड और ईलाज नहीं दिया। मरने के बाद लकड़ी, दो गज कफ़न और ज़मीन भी नसीब नहीं हुआ। दुर्गति के लिए शवों को गंगा में फेंक दिया। कुत्ते लाशों को नोच रहे हैं। हिंदुओं को दफ़नाया जा रहा है। कहाँ ले जा रहे है देश और इंसानियत को??
इससे पहले, राजद नेता और बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने भी इस मुद्दे पर सरकार पर निशाना साधा। तेजस्वी ने ट्विटर पर लिखा- गंगा नदी, पटना में कई दिनों से लाशें बह रही है। सरकार नदारद है। गाँव-गाँव संक्रमण फैल चुका है। साधारण दवाएँ तक गाँवो में उपलब्ध नहीं है। गंगा में ऐसे लाशें बहेंगी तो बड़ी आबादी को संक्रमण का ख़तरा है। समय रहते उपाय और बचाव किया जाए।
बिहार के बक्सर जिले के चौसा में कई शव बरामद हुए हैं। इसके बाद, शवों को बिहार में आने से रोकने के लिए सीमा पर गंगा नदी में जाल लगाया गया है। इस पूरे घटना से देश के लोग हतप्रभ हैं। मानवता शर्मसार है। लेकिन प्रशासनिक अफसर और सरकार का रुख ऐसा है जो और अधिक शर्मसार कर रहा है। बिहार और उत्तर प्रदेश की सरकार और अफसर यही साबित करने में लगे हैं कि शव दूसरी तरफ से बहकर आया है। ऐेसे में उन्नाव से एक और शाकिंग खबर सामने आई है। उन्नाव में गंगा नदी के किनारे बालू में सैकड़ों शव दबाये हुए मिले। अभी पड़ताल चल रही है अफसरों की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *