लालू ने नीतीश के क्षेत्र की बदहाल हेल्थ सेंटर की तस्वीर पर लिखा- ये कैसा सुशासन? 15 साल से सोया है

Patna : बिहार में नीतीश कुमार स्वास्थ्य केंद्रों और स्वास्थ्य इन्फ्रा की बदइंतजामी पर घिरते ही जा रहे हैं। विपक्ष लगातार उन पर उंगली उठा रहा है, लेकिन सरकार के पास कोई जवाब नहीं है। तभी तो सारे विपक्षी नेता लगातार स्वास्थ्य केंद्रों और अस्पतालों की तस्वीरें ट‍्वरट किये जा रहे हैं लेकिन सरकार की ओर से कभी कोई ठोस जवाब नहीं आता। भाजपा या जदयू की ओर से भी इन तस्वीरों पर कोई खास गतिरोध नहीं दिखता है। लेकिन इस पूरी प्रक्रिया में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने जरूर आज एक ऐसी तस्वीर पेश की है जो बेहद संवेदनशील है और लोगों को सोचने के लिये मजबूर भी कर सकती है। सबसे अहम बात यह है कि लालू प्रसाद ने जिस स्वास्थ्य केंद्र की फोटो ट‍्वीट की है वो बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के इलाके का है। और तो और यह बंद पड़ा स्वास्थ्य केंद्र कागजों में दौड़ रहा है और यहां मेडिकल स्टाफ भी पोस्टिंग भी। जाहिर है तनख्वाह तो जा ही रहा होगा।

राजद सुप्रीमो ने ट‍्वीट किया है- नीतीश ने अपने गृह जिला नालंदा में भी हमारे द्वारा बनाया गया स्वास्थ्य केंद्र बंद करा दिया लेकिन गुलाबी फाइलों में यह चालू है। इनके नाकारापन के वायरस ने ऐसे हज़ारों स्वास्थ्य केंद्रों की बलि ली है क्योंकि इनके फाइलों में कार्यरत रहने से प्रसाद रूपी चढ़ावा प्राप्त होता रहता है। उन्होंने नालन्दा जिला राजद के हैंडल से ट‍्वीट किये गये इस तस्वीर को रिट‍्वीट किया है। आरजेडी नालन्दा ने ट‍्वीट किया था- नालंदा जिला के हिलसा विधानसभा में करायपारसुराय प्रखंड के चकवाजितपुर उप स्वास्थ्य केंद्र का हाल! @NitishKumar जी, क्या 15 साल से यहाँ आदमी नहीं रह रहे थे? उन्हें स्वास्थ्य सेवाओं की आवश्यकता नहीं थी? यह कैसा ‘सुशासन’ है जिसमें सरकार 15 साल तक सोई रहती है?
लालू प्रसाद ने सहरसा के एक स्वास्थ्य केंद्र की भी तस्वीर के साथ ट‍्वीट किया है- सहरसा में करीब 14 करोड़ की लागत से बने इस रेफरल अस्पताल का 1995 में हमने उद्घाटन किया था ताकि पूर्वी और पश्चिमी तटबंध के अंदर बसे लाखों लोगों को इलाज उपलब्ध कराया जा सके लेकिन संकीर्ण और नकारात्मक मानसिकता के धनी ने बाक़ी हज़ारों स्वास्थ्य केंद्रों की तरह इसे भी ज़मीनदोज कर दिया।
उनके साथ ही राष्‍ट्रीय जनता दल ने बिहार में ब्लैक फंगस के बढ़ते मामलों को लेकर सरकार को घेरा है। राजद ने कहा है सरकार ने दवाइयों की जमाखोरी और कालाबाजारी पर तत्‍काल रोक लगाते हुए सरकारी अस्पतालों में पर्याप्‍त मात्रा में दवाई उपलब्‍ध नहीं कराई तो पार्टी आंदोलन छेड़ेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *