चैतन्य पालित के दिल्ली के द्वारका स्थित घर पर भोजन करते तेज प्रताप यादव। Image Source : posted by facebook/chaitanya.palit

लालू के लाल ने पॉलिटिकल बयानों से किया किनारा, राजद में शांत हुआ बवाल, दिल्ली में घूम रहे तेज

New Delhi : पता नहीं घरेलू पंचायत में तेज प्रताप से राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने कैसा वादा ले लिया है कि वे दिल्ली एनसीआर में ही अटके हैं। कभी वृंदावन में नजर आते हैं तो कभी दिल्ली के द्वारका में अपने दोस्त के निवास पर टाइम स्पेन्ड करते हुये। नो पॉलिटिक्स के थ्योरी को अमल में लाते हुये। जैसे उन्होंने घरवालों को आश्वस्ति दी हो कि वे अब पॉलिटिक्स पर कुछ बोलेंगे ही नहीं। वह अपने दोस्त के साथ आउटिंग कर रहे हैं। पॉलिटिकल बयानबाजी से दूर अतिथि देवो भव का लुत्फ उठा रहे हैं। गुरुवार की रात उन्होंने अपने दोस्त चैतन्य पालित के घर परिवार के साथ डिनर किया। चैतन्य ने तेज प्रताप के साथ ली गई तस्वीरों को सोशल मीडिया पर अपलोड करते हुये लिखा- अतिथि देवो भव:। उनका यह घर दिल्ली के द्वारका के सेक्टर चार में है।


लालू के लाल तेज प्रताप के इस हालिया रुख के बाद बिहार में तेजप्रताप के बयान से शुरू हुआ बवाल धीरे-धीरे पार्टी के भीतर खत्म हो रहा है। राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह लगातार पार्टी कार्यालय आ रहे हैं, लेकिन किसी को इंटरव्यू देने से पहले जगदा बाबू की एक शर्त जरूर है कि तेजप्रताप यादव से जुड़े सवाल न पूछें। इस सवाल का वह पहले ही जवाब दे चुके हैं कि वे अपनी पार्टी में सिर्फ लालू प्रसाद यादव को जानते हैं और पार्टी में उनसे ऊपर हैं। उन्होंने यह भी कहा था कि- कौन हैं तेज प्रताप?
तेजप्रताप ने 8 अगस्त को जगदानंद सिंह को हिटलर बताया और उसके बाद एक सप्ताह से अधिक समय तक जगदानंद कार्यालय नहीं आये। लालू प्रसाद को मनाने के बाद वे पार्टी कार्यालय में आने लगे। बुधवार को तेज प्रताप यादव ने वृंदावन की फोटो सोशल मीडिया पर अपलोड की। उन्हें अपने आध्यात्मिक गुरु श्री बल्लभाचार्य से आशीर्वाद लेते देखा गया। ताजा तस्वीरों में तेज प्रताप यादव अपने दोस्त चैतन्य पालित के घर परिवार के सदस्यों के साथ डिनर करते नजर आ रहे हैं। फोटो में वह अपनी फोटो गैलरी को देखते हुये भी नजर आ रहे हैं। दिलचस्प बात यह है कि वृंदावन में गुरु से मुलाकात हो या दिल्ली में दोस्त, तेज प्रताप कोई राजनीतिक बयान नहीं दे रहे हैं।
चैतन्य पालित गया के रहने वाले हैं। वे दिल्ली में रहते हैं। उनके पिता जय कुमार पालित कांग्रेस से विधायक थे। चैतन्य कांग्रेस से जुड़े हुए हैं, लेकिन पिछले चुनाव में जब कांग्रेस ने चैतन्य को टिकट न देकर अनिरुद्ध प्रसाद सिन्हा को टिकट दिया तो चैतन्य ने निर्दलीय चुनाव लड़ा। वह चुनाव भी हार गये। चैतन्य वृंदावन ट्रिप पर भी तेज प्रताप के साथ बने हुये थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *