Image Source : tweeted by @pappuyadavjapl

भाजपा नेता रूडी के MP फंड से खरीदी गई एम्बुलेंस से शराब जब्त- but pappu can’t dance saala

Patna : बिहार में शराबबंदी है। लेकिन सारण जिले में भारतीय जनता पार्टी के नेता राजीव प्रताप रूडी के सांसद स्थानीय क्षेत्र विकास योजना (एमपीएलएडीएस) कोष से खरीदी गई एम्बुलेंस से 15 सितंबर को छह बोरियों में पैक देशी शराब की बोतलें जब्त की गईं। वैसे शराबंदी वाले बिहार में शराब की बोतलें पकड़ेजाने की घटनाएं बेहद आम हैं लेकिन चूंकि यह एंबूलेंस रूडी के सांसद फंड से वित्त पोषित है और चार माह पहले ही इन एम्बुलेन्सों में बालू-सीमेंट ढोने को लेकर पप्पू-रूडी विवाद हुआ था, सो मामला स्पेशल हो गया है। रूडी ने 2019 में सांसद पंचायत एम्बुलेंस सेवा पहल के तहत लोगों की सेवा के लिये अपने निर्वाचन क्षेत्र के मुखिया (ग्राम प्रधान) को अपने एमपीलैड्स फंड के साथ कई एम्बुलेंस दान किये थे। जिस एंबुलेंस से शराब जब्त की गई थी उसे कोटवापट्टी-रामपुर के मुखिया जय प्रकाश सिंह को दे दिया गया था। पुलिस ने कहा कि सिंह और दो अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है।

वैसे इस पर जन अधिकार पार्टी (लोकतांत्रिक) के नेता और मधेपुरा से पूर्व सांसद राजेश रंजन उर्फ ​​पप्पू यादव ने ट‍्वीट किया- मैं एम्बुलेंस मामले को उजागर कर जेल में हूं, उधर सांसद एम्बुलेंस से शराब की तस्करी जारी। भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता सांसद राजीव प्रताप रूडी जी की सांसद निधि के एम्बुलेंस से 280 ली देशी शराब बरामद हुई। मतलब एम्बुलेंस मरीज के लिये उपलब्ध हो या नहीं पर शराब की तस्करी के लिये उपलब्ध है।
फिर दूसरा ट‍्वीट किया- ऊपर में नाम स्वर्णाक्षरों में अंकित है। नीचे शराब का बोरा है। एम्बुलेंस का ऐसा अभिनव प्रयोग बिहार में भाजपा के नेताओं के संरक्षण में हो रहा है। मुख्यमंत्री आप शराबबंदी का गुणगान कीजिये। आपका सहयोगी दल भाजपा शराब की तस्करी करवायेगी। इससे बढ़िया गठजोड़ क्या होगा?
साफ हैं, पप्पू यादव अपने चार माह पुराने लगाये गये आरोपों के एकबार फिर से सही होने पर खुश तो हैं, लेकिन खुशी नहीं मना सकते क्योंकि जेल में हैं। ऐसे में एक फिल्म- जाने तू या जाने ना का गीत..but pappu can’t dance saala… काफी याद आ रहा है।
बता दें कि अप्रैल 2016 में बिहार में शराबबंदी घोषित की गई थी। बहरहाल, बरामदगी में भगवान बाजार थाना क्षेत्र के श्याम चक इलाके से 280 लीटर देशी शराब बरामद हुई है। अधिकारियों ने राज्य के मद्यनिषेध कानूनों के तहत कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी है। सारण के पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार ने कहा- एम्बुलेंस के चालक राकेश राय को गिरफ्तार कर लिया गया है और वह जिन लोगों के संपर्क में था उनकी भी पहचान कर ली गई है।
रूडी ने स्थानीय पुलिस को तुरंत कार्रवाई करने के लिये धन्यवाद देते हुये कहा- पुलिस को इस मामले में दोषी पाये गये सभी लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिये ।
मई 2021 में रूडी के एम्बुलेन्स तब सुर्खियों में आये जब जन अधिकार पार्टी (लोकतांत्रिक) के नेता और मधेपुरा से पूर्व सांसद राजेश रंजन उर्फ ​​पप्पू यादव ने आरोप लगाया कि मिस्टर रूडी के एमपीलैड्स फंड से खरीदी गई एम्बुलेंस बेकार खड़ी थीं, जबकि राज्य के अस्पतालों में COVID-19 रोगियों को एम्बुलेन्स नहीं मिल रही है। पप्पू ने एक सामुदायिक केंद्र में खड़ी प्लास्टिक से ढकी एम्बुलेंसों की पंक्तियों के वीडियो भी जारी किये थे, जिन पर रूडी के नाम के स्टिकर लगे थे। बाद में, दोनों नेता इस मुद्दे पर मौखिक रूप से उलझ गये और पप्पू को 32 साल पुराने अपहरण के मामले में जेल भेज दिया गया।

पप्पू यादव ने उस समय आरोप लगाया था- यह आपराधिक लापरवाही है। लोग COVID-19 रोगियों को अस्पतालों में ले जाने के लिये 12,000 रुपये का भुगतान करने को मजबूर हैं। एंबुलेंस की भारी कमी है और सारण के सांसद ने 100 एंबुलेंस को एक जगह बेकार खड़ा कर दिया है। मामले की जांच होनी चाहिये क्योंकि एमपीलैड फंड जनता का पैसा है। रूडी ने यादव पर “राजनीति से प्रेरित” होने का आरोप लगाया था और कहा था कि असली मुद्दा ड्राइवरों की कमी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *