पत्रकारों से अपनी बात रखते चिराग पासवान और एक्शन में पशुपति पारस। Image Source : Agencies

कलह का कीचड़ : पारस को फोन कर गाली-गलौज, धमकी दी, दिल्ली में FIR, अमित शाह, CM को शिकायत

New Delhi : लोक जनशक्ति पार्टी की लड़ाई अब चिथड़े चिथड़े हो गई है। रामविलास पासवान के वारिस और लोक जनशक्ति पार्टी के उत्तराधिकारी बने घूम रहे सांसद चिराग पासवान को उनके चाचा और केंद्रीय मंत्री पशुपति कुमार घेरने की तैयारी में जुट गये हैं। ऐसी स्थिति हो गई है कि पार्टी में वर्चस्व को लेकर चाचा पशुपति पारस और भतीजे चिराग पासवान के बीच चल रही जंग अब एकदम घटिया रुख अख्तियार करते जा रही है। अब केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस खुद गुरुवार मीडिया के सामने आये और दुखड़ा रोया- किसी ने मुझे फोन पर कॉल किया और गाली-गलौज करने के बाद जान ले लेने की धमकी दी। इस मामले में पशुपति कुमार पारस की पहल पर संसद मार्ग थाने में केंद्रीय मंत्री से गाली गलौज करने व धमकी देने की एफआईआर दर्ज की गई है। यही नहीं पारस के करीबी नेताओं ने तो इस मामले में सीधे चिराग पासवान पर ही हमला बोल दिया है।

हैरत की बात यह है कि केंद्रीय मंत्री को किसी ने फोन कर धमकाने की हिमाकत की और उससे बेहद हल्के फुल्के अंदाज में पुलिस ने निपटा दिया। इससे पहले पारस गुट के महासचिव केशव सिंह ने बुधवार को पटना के शास्त्रीनगर थाने में चिराग पासवान के खिलाफ इसी तरह के आरोप लगाते हुये शिकायत दर्ज कराई थी। केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस ने धमकी और गाली-गलौज मामले को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को भी पत्र लिखा है। उन्होंने कहा कि जो मुझे धमकी दे रहे हैं, उनकी जांच होनी चाहिये। साथ ही उन्होंने कहा कि उनकी सुरक्षा भी बढ़ाई जाये। पशुपति पारस ने कहा कि इन सबके पीछे राजनीतिक साजिश है।
मंत्री ने प्रेस कांफ्रेंस करते हुये कहा – हमारी जनता में प्रशंसा को देखते हुये हम पर इस तरह से हमला किया जा रहा है। हम इस मामले को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री और राज्य के मुख्यमंत्री को पत्र लिख रहे हैं। पत्र में धमकी की जांच के साथ-साथ वाई श्रेणी की सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम की मांग की है। इससे पहले बुधवार को केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस खेमे के नेता केशव सिंह ने चिराग पासवान के खिलाफ शिकायत की थी। उसने आरोप लगाया कि उससे उसकी जान को खतरा है।

 

पशुपति पारस के साथ यह पहला मामला नहीं है। दो दिन पहले सोमवार को एक महिला ने हाजीपुर में पशुपति पारस पर स्याही फेंकी थी। उन पर यह हमला तब हुआ जब वे केंद्रीय मंत्री बनने के बाद पहली बार हाजीपुर पहुंचे थे। पारस हाजीपुर में आभार मार्च निकाल रहे थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *