प्रतीकात्मक तस्वीर। Image Source : Agencies

नल जल योजना- बिहार देश में अव्वल, कुल 1.46 करोड़ नये घरो में कनेक्शन, यूपी-बंगाल फिसड‍्डी

New Delhi : मोदी सरकार की महत्वाकांक्षी जल जीवन मिशन (JJM) के तहत बिहार राज्य ने ग्रामीण नल जल कनेक्शन प्रदान करने में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया है। आईई रिपोर्ट में कहा गया है- जल जीवन मिशन डैशबोर्ड पर मंगलवार तक उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2019 में मिशन के शुभारंभ के बाद से पूरे भारत में उपलब्ध कराये गये 4.73 करोड़ नल के पानी में से 1.46 करोड़ कनेक्शन बिहार में हैं। इसका मतलब है कि प्रदेश में हर तीसरे घर को नल के पानी का कनेक्शन मिल गया है। बिहार वर्ष 2024 तक सभी ग्रामीण घरों में नल के पानी के कनेक्शन उपलब्ध कराने वाला देश का पहला राज्य बन सकता है। इस योजना की घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने स्वतंत्रता दिवस 2019 के भाषण में की थी। उस समय बिहार में केवल 1.84 प्रतिशत ग्रामीण परिवारों में नल के पानी की आपूर्ति थी। बिहार भारत में सबसे नीचे था।

भारत के अन्य राज्यों में सबसे नीचे उत्तर प्रदेश (1.96 प्रतिशत), असम (1.76 प्रतिशत), पश्चिम बंगाल (1.21 प्रतिशत) और मेघालय (0.77 प्रतिशत) थे। दो साल की अवधि में बिहार में नल के पानी के कनेक्शन वाले ग्रामीण परिवारों का प्रतिशत 86.96 प्रतिशत हो गया है। बिहार से बेहतर नल जल उपलब्धता वाले अन्य राज्य गोवा (100 फीसदी), तेलंगाना (100 फीसदी) और हरियाणा (99.24 फीसदी) हैं। तेलंगाना राज्य ने भी सराहनीय प्रदर्शन किया है। 2019 में नल के पानी के कनेक्शन वाले ग्रामीण परिवारों की हिस्सेदारी 29 प्रतिशत से अब 100 प्रतिशत हो गई है। इसके अलावा, भारत के इन केंद्र शासित प्रदेशों- अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, पुडुचेरी, दादरा और नगर हवेली के साथ-साथ दमन और दीव ने भी नल का पानी प्राप्त करने वाले 100 प्रतिशत ग्रामीण परिवारों का लक्ष्य हासिल किया है।
महाराष्ट्र, गुजरात और तमिलनाडु जैसे राज्य बिहार से बहुत आगे थे। अब नल के पानी के कनेक्शन में पिछड़ गये हैं। जब जल जीवन मिशन शुरू किया गया था, गुजरात में 70.13 प्रतिशत ग्रामीण परिवारों में, महाराष्ट्र राज्य में 34.02 प्रतिशत और तमिलनाडु में 17.15 प्रतिशत घरों में नल के पानी की आपूर्ति थी। ये राज्य सुधर कर क्रमश: 84.06 फीसदी, 65.08 फीसदी और 34.74 फीसदी हो गये हैं। जेजेएम की शुरुआत में सबसे निचले पांच राज्यों में यूपी, असम और पश्चिम बंगाल हैं। ताजा आंकड़ों के मुताबिक, पश्चिम बंगाल (11.13 फीसदी ग्रामीण कनेक्शन), यूपी (12.29 फीसदी), छत्तीसगढ़ (13.11 फीसदी), झारखंड (13.98 फीसदी) और असम (16.69 फीसदी) पांच सबसे खराब प्रदर्शन करने वाले राज्य हैं। केंद्र शासित प्रदेशों में लद्दाख में सबसे कम- 12.54 प्रतिशत ग्रामीण घरों में पानी की आपूर्ति है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *