नेहा के ‘बिहार में का बा’ का जवाब देने के लिए मैथिल ठाकुर आईं सामने, यहां देखें

पटना

लोक कलाकार नेहा राठौर का गाना बिहार में का बा इतना फेमस हुआ कि भाजपा को वीडियो जारी कर इसका जवाब देना पड़ा। हालांकि ये जवाब भी कुछ खास काम नहीं ही आया। क्योंकि जब भाजपा ने अपने ऐड कैंपेन को सोशल मीडिया पर जारी किया तो लोगों ने एक से एक मीम शेयर करने शुरू कर दिए। लेकिन अब नेहा राठौर के भोजपुरी को मैथिली ठाकुर की मैथिली से बैलेंस करने की कोशिश की गई है। असल में मैथिली ठाकुर भी बिहार की एक मशहूर लोक गायिका हैं। सोशल मीडिया पर मैथिली ठाकुर के गायन के वीडियो काफी बड़ी संख्या में देखे और शेयर किए जाते हैं।

मैथिली ने बिहार में ई बा को दी आवाज

असल में मैथिली ठाकुर ने मैथिली में लिखे गए एक गीत को आवाज दी है। मैथिली ने ये गीत ट्वीट भी किया है। इस ट्वीट में उन्होंने बताया है कि डॉक्टर चंद्रमोहन झा द्वारा इस गीत को लिखा गया है। इस गीत में मैथिली बिना नाम लिए नेहा राठौर पर तंज कस रही हैं। गीत में बताया जा रहा है कि मिथिला के संग बिहार ने तरक्की की है। इसमें मिथिलांचल को मिले एयरपोर्ट, एम्स का जिक्र किया जा रहा है। मैथिली ठाकुर के इस गीत को आप यहां नीचे सुन सकते हैं।

नेहा ने गाया था बिहार में का बा

आपने मनोज वजपायी का गाना ‘बंबई में का बा’ ज़रूर सुना होगा। ऐसे ही नेहा ने भी बिहार को लेकर एक गाना गया ‘बिहार में का बा’, जिसके बाद वे एक बार फिर से सोशल मीडिया पर वायरल हो गईं हैं। बिहार में चुनावी माहौल है ऐसे में ये गाना और भी तेज़ी से वायरल हो रहा है और लोगों द्वारा खूब पसंद किया जा रहा है। इस गाने में नेहा ने 15 साल लालू तो 15 साल नीतीश दोनों के ही कार्यकालों का ज़िक्र किया है और कहा है कि इस बावजूद बिहार में बेरोजगारी एक बड़ी समस्या है। रोजगार के लोगों को अपना घर छोड़ कर अन्य प्रदेशों व देशों में जाना पड़ता है। अब इसी के जवाब में मैथिली का गाना सामने आया है।

नेहा राठौर ने मैथिली को दे दी नसीहत

मैथिली ठाकुर के गाने पर नेहा राठौर की प्रतिक्रिया भी सामने आ गई है। उन्होंने एक ट्वीट को रीट्वीट किया है। इस ट्वीट में नेहा को टैग कर लिखा गया था कि मैथिली द्वारा बिहार की जनता की आवाज़ उठाने की बजाय, जनता की तरफ से राजनीतिक दलों को क्लीनचिट दे दिया जाना, न सिर्फ बिहार की स्थानीय जनता की समस्याओं का मजाक बनाना है, बल्कि उनके भरोसे के साथ विश्वासघात भी है। नेहा ने इसे रीट्वीट करते हुए लिखा, लोक-कलाकारों को लोक के हितों से समझौता नहीं करना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *