नीतीश ने बिहार में लॉकडाउन 8 जून तक के लिये बढ़ाया, हेमंत बोले- हमने कोरोना पर काबू पा लिया है

Patna : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को लगता है कि लॉकडाउन से कोरोना को मात देने में मदद मिल रही है। और इसको अंतिम मुकाम तक पहुंचाने के लिये अभी और लॉकडाउन की जरूरत है। ऐसे में बिहार में सात दिनों के लिये लॉकडाउन बढ़ा दिया गया है। अब बिहार में 8 जून तक लॉकडाउन रहेगा। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ट‍्वीट करके इसकी सूचना दी है। मुख्यमंत्री ने ट्वीट्स की एक श्रृंखला में कहा कि प्रतिबंध एक सप्ताह तक कई छूटों के साथ जारी रहेगा। धीरे-धीरे और छूट की ओर बढ़ रहे हैं। राज्य में आवश्यक दुकानों को अब दोपहर 2 बजे तक खोलने की अनुमति है और गैर-जरूरी दुकानें जिला मजिस्ट्रेट द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार वैकल्पिक दिनों में खोली जा सकती हैं। हालांकि झारखंड में लॉकडाउन को समाप्त करने का निर्णय लिया गया है। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि झारखंड कोरोना पर विजय प्राप्त कर चुका है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ट‍्वीट किया – कोरोना संक्रमण को देखते हुए लॉकडाउन को एक सप्ताह अर्थात 8 जून, 2021 तक बढ़ाने का निर्णय लिया गया है। परन्तु व्यापार के लिए अतिरिक्त छूट दी जा रही है। सभी लोग मास्क पहनें और सामाजिक दूरी बनाए रखें।
दूसरी ओर झारखंड के मुख्यमंत्री ने कोरोना पर काबू पा लेने का ऐलान करते हुये ट‍्वीट किया- साथियों, कैसा होना चाहिए अनलॉक 1? स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह में आपके दिए सहयोग से हमने कोरोना के दूसरे लहर पर क़ाबू पा लिया है। जीवन और जीविका के इस संघर्ष में अब हमारा ध्यान जीविका पर है। इसलिए आप अपने बहुमूल्य विचार कमेंट कर साझा करें की कैसा होनी चाहिए अनलॉक 1 की प्रक्रिया?
हेमंत सोरेन की इस अपील का व्यापक असर हुआ। लोगों की प्रतिक्रियाओं की बाढ़ आ गई लेकिन ज्यादातर लोग अपनी आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिये सरकारी उपाय शुरू करने की डिामंड करते रहे। इरशाद अहमद ने ट‍्वीट किया- सभी दुकानें खुलेगी दुकानदार का टीकाकरण होना आवश्यक हो। सैनिटाइजर का उपयोग एवं ग्राहक का मास्क पहनना दुकानदार सुनिश्चित करेंगे। भीड़भाड़ वाली जगहों पर प्रशासन मुस्तैद हो जो सामाजिक दूरी पालन करवाएंगे। कोरोना जांच निरंतर रूप से चालू हो!
बैद्यनाथ कुमार ने लिखा- सर स्कूलों कॉलेजों को खोलने का भी कष्ट करें क्योंकि हम शिक्षकों की आर्थिक स्थिति दयनीय हो गई है। कमाई का कोई सधान नहीं है। निजी स्कूल के शिक्षकों को सहायता चाहिए। कृपा कीजिए। कुछ लोग तो अजीबोगरीब डिमांड लेकर सामने आ गये। तारकेश्वर शर्मा ने ट‍्वीट किया- सर , हम JTET 2016 पास अभ्यर्थियों को बेरोजगारी के कारण पिछले पाँच वर्षों से lockdawn जैसा महसूस हो रहा है, कृपया हमारी नियुक्ति शुरू करें, हम सभी बहुत अवसाद में है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *