नीतीश कुमार और योगी आदित्यनाथ की फाइल फोटो। Image Source : Agencies

नीतीश बोले- कानून बनाकर जनसंख्या नियंत्रित करना संभव ही नहीं, महिलाओं को पढ़ाओ, जनसंख्या खुद नियंत्रित हो जायेगी

Patna : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) शासित कुछ राज्यों द्वारा जनसंख्या नियंत्रण के लिये अलग कानूनों पर विचार करने और उनको प्रभावी बनाने के उपायों पर अपनी असहमति जताई है। असम और उत्तर प्रदेश ने जनसंख्या नियंत्रण पर मसौदा विधेयक का प्रस्ताव रखा है, जिस पर विपक्ष ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। नीतीश कुमार की जनता दल-यूनाइटेड (जेडीयू) बिहार और केंद्र में भाजपा की सहयोगी है। मसौदा विधेयक पर उनके विचार के बारे में पूछे जाने पर नीतीश कुमार ने पटना में संवाददाताओं से कहा- कानून के साथ जनसंख्या नियंत्रण सुनिश्चित करना संभव नहीं है। मेरा मानना ​​है कि कानून के बलबूते जनसंख्या को नियंत्रित करना संभव ही नहीं है… चीन या किसी अन्य देश का उदाहरण देख लें, स्थिति स्पष्ट हो जायेगी।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि अगर जलसंख्या को कम करना है तो महिलाओं की शिक्षा पर ध्यान देना होगा। महिलाओं को शिक्षित करना ज्यादा महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा- महिलाओं के शिक्षित होने से सभी को फायदा होगा। पूरे समाज को फायदा होगा। बिहार ने महिलाओं को आगे बढ़ाने की दिशा में काम किया है तो अब बिहार की प्रजनन दर अब कम हो रही है।
विपक्षी दलों ने जनसंख्या नियंत्रण पर प्रस्तावित मसौदा विधेयक को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार पर निशाना साधा है। समाजवादी पार्टी ने इसे “चुनावी प्रचार” करार दिया है, जबकि एक कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने तो राज्य सरकार को यह बताने के लिये कहा कि उनके मंत्रियों के कितने “वैध और नाजायज बच्चे” हैं। यह टिप्पणी उत्तर प्रदेश जनसंख्या नीति 2021-2030 के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा राज्य में बढ़ती जनसंख्या को स्थिर करने और समयबद्ध तरीके से मातृ एवं शिशु मृत्यु को कम करने के लिये लाई गई नई नीति के मसौदे के अनावरण के एक दिन बाद आई है।
40 पन्नों के नीति दस्तावेज में उल्लेख किया गया है – यह सुनिश्चित करने का प्रयास किया जायेगा कि राज्य में विभिन्न समुदायों के बीच जनसंख्या संतुलन हो। कांग्रेस के दिग्गज नेता सलमान खुर्शीद ने संवाददाताओं से कहा- कानून बनाने से पहले सरकार को बताना चाहिये कि उसके मंत्रियों के कितने वैध और नाजायज बच्चे हैं। राजनेताओं को घोषित करना चाहिये कि उनके कितने बच्चे हैं। मैं भी यह घोषित करूंगा कि मेरे पास कितने हैं और फिर इस पर चर्चा होनी चाहिये।
वैध और नाजायज बच्चों पर उनके बयान के बारे में विस्तार से पूछे जाने पर उन्होंने कहा- जो लोग इसे गलत समझते हैं उन्हें मुझसे बात करनी चाहिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *