एयरपोर्ट पर लालू प्रसाद के स्वागत को पहुंचे तेज प्रताप यादव। Image Source : Live Bihar/Screengrab

राबड़ी आवास में नो-इंट्री, लालू ने भी धकियाया तो तेज प्रताप बोले- पार्टी पर लफंगों का कब्जा, मेरा कोई लेनादेना नहीं

Patna : राष्ट्रीय जनता दल सुप्रीमो लालू प्रसाद के पटना पहुंचते ही उनके अपने ही घर में तमाशा शुरू हो गया है। पार्टी से नाराज होकर अपने पिता की माला जप रहे तेज प्रताप यादव ने लालू के लौटने के फौरन बाद ही पार्टी से अपनी नाराजगी जताते हुये पार्टी के वरिष्ठ नेता प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह, सुनील सिंह और संजय यादव को लफंगा बता दिया।
लालू प्रसाद को खुश करने के लिये तेज प्रताप यादव ने अपना घर सजाया था और अपने घर के गेट पर ‘वेलकम माई फादर’ का बोर्ड लगवाया था। पर लालू प्रसाद ने उनका वेलकम नहीं किया। मां राबड़ी देवी ने भी तेज प्रताप का वेलकम नहीं किया। उन्हें राबड़ी देवी के आवास में प्रवेश नहीं करने दिया गया।

इसके साथ ही तेजप्रताप यादव ने बड़ी बात कह दी है। तेजप्रताप यादव ने मीडिया से कहा – मुझे राबड़ी जी के आवास पर जाने से रोक दिया गया। मैं अपने पिता लालू प्रसाद को भी अपने आवास पर ले जाना चाहता था, लेकिन उन्हें जाने नहीं दिया गया।
तेज प्रताप ने तो यहां तक ​​कह दिया है कि राजद में कुछ लफंगे हैं, जो मुझे पार्टी में पीछे कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जब तक जगदानंद सिंह जैसे लोग पार्टी में हैं, मेरा राजद से कोई लेना-देना नहीं है। मैं जल्द ही एक बड़ा फैसला लेने जा रहा हूं।
तेज प्रताप यादव ने कहा- मैंने अपने पिता लालू प्रसाद के स्वागत के लिये पूरे बिहार से अपने छात्र जनशक्ति परिषद के युवा कार्यकर्ताओं को बुलाया था। सबने पटना एयरपोर्ट पर भी लालू जी का गर्मजोशी से स्वागत किया। लेकिन फिर पापा को धक्का मारकर हमसे दूर कर दिया गया। ऐसे में पूरे बिहार के हमारे युवा कार्यकर्ता पार्टी से नाराज हो जायेंगे। यह पार्टी के लिये काफी बुरा होगा।
तेज प्रताप यादव ने तीन लोगों के नाम बताये। तेज प्रताप यादव ने कहा कि एयरपोर्ट पर जगदानंद सिंह, सुनील सिंह और संजय यादव जैसे लोग मौजूद थे। इन सब की वजह से मुझे पार्टी में फेंका जा रहा है। संघी मानसिकता के लोग राजद में आ गये हैं। ये लोग मिलकर पार्टी को अंदर से बर्बाद कर रहे हैं। मुझे अब इस पार्टी की परवाह नहीं है। मेरा मतलब सिर्फ मेरे पिताजी से है।

तेज प्रताप यादव ने आज अपने सरकारी आवास पर अपने पिता के स्वागत के लिये खूब सजावट कराई थी। इससे पहले उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा- गीदड़ों से कहो कि आज घर से बाहर न निकलें, क्योंकि शेर आज वापस आ रहा है। बिहार के लोगों की आवाज, जिसे बंद करने की कोशिश की गई। लेकिन सत्य को दबाया जा सकता है, पराजित नहीं। वन्दे मातरम।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *