मदन सहनी और जीवेश मिश्रा की फाइल फोटो। Image Source : Social Media

मंत्री की सलाह पर सहनी बोले- मैं नेता हूं, दलाल नहीं, जीवेश दवा के धंधे से आये हैं, सीमा में रहें

Patna : बिहार में समाज कल्याण मंत्री मदन सहनी और समाज कल्याण सचिव अतुल प्रसाद के बीच अफसरों के तबादले को लेकर जारी जंग अलग ही रुख अख्तियार करती जा रही है। ऐसा लग रहा है कि कहीं ये जातिगत और मसल पावर की ओर रुख न कर ले। फिलहाल तो मंत्रियों के बीच जुबानी जंग शुरू हो गई है। शुक्रवार को जहां एक कैबिनेट मंत्री और कुछ विधायकों ने मंत्री मदन सहनी का समर्थन किया वहीं शनिवार को सरकार का समर्थन करते हुये भूमिहार जाति से आनेवाले श्रम संसाधन मंत्री जीवेश मिश्रा के बयानों पर सहनी जमकर बरसे और उन्हें दलाल की उपाधि दे दी। मदन सहनी के इस्तीफे की बात पर मंत्री जीवेश मिश्रा ने कहा कि अधिकारी से तालमेल बिठाकर चलना चाहिये।

जीवेश मिश्रा ने कहा- मदन सहनी जी ने जो इस्तीफा देने की बात कही है, इसके और भी कई कारण होंगे। उनके इस्तीफे देने की बात वही अच्छी तरह से बता सकते हैं। लेकिन जनता सरकार को चुनती है और मंत्री को चाहिये कि अधिकारियों से आपस में सामंजस्य बनाये ताकि जनता के हित में कार्य हो सके। मैं अफसरों की मनमानी के आरोप का समर्थन नहीं करता। मेरे पास दो-दो विभाग हैं। मेरे विभागों में इस तरह की कोई बात नहीं है। मंत्री विभाग का प्रमुख होता है। जो अधिकारी मंत्री की बातों की अनदेखी करते हैं उनको नियमों का पालन करना चाहिये। मंत्री जनता के चुने हुये प्रतिनिधि हैं। जनता के कई सारे काम होते हैं। ऐसे में मंत्रियों की जवाबदेही ज्यादा होती है। अधिकारियों को यह बात समझनी चाहिये।
फिर क्या था। समाज कल्याण मंत्री मदन सहनी ने भी श्रम संसाधन मंत्री जीवेश मिश्रा की धज्जियां उड़ा दी। सहनी ने कहा – हम राजनीतिक प्राणी हैं, दलाल नहीं हैं जो तालमेल बिठाकर चलेंगे। ये विद्या वो अपने आप तक सीमित रखें। वो इसी लाइन से जुड़े हुये हैं। इसलिये वो ऐसा बोल रहे हैं। हम उनको जानते हैं वो हमारे जिला से ही हैं। जिस धंधे से वो जुड़े रहे हैं, उस धंधे के हम ज्यादा जानकार हैं। वो भी दवा के धंधे से आये हैं। उनको अपनी सीमा में रहना चाहिये। उनको दो-दो विभाग मिला है वो ज्यादा खुश हैं। जीवेश मिश्रा मुझे प्रमाण पत्र लेने वाले कौन होते हैं? सहनी ने कहा कि वो संचिका भेजे हुये हैं। कई दिनों से पड़ा हुआ है। इस पर निर्णय क्यों नहीं हो रहा है? उन्होंने कहा कि मैं अपने स्टैंड पर कायम हूं। मुख्यमंत्री से बात होगी। इसके बाद आगे का फैसला लेंगे। दरअसल, मदन सहनी ने समाज कल्याण विभाग के सचिव अतुल प्रसाद पर मनमानी का आरोप लगाते हुये इस्तीफा देने की पेशकश की थी।
समाज कल्याण मंत्री ने कहा- अब तक सीएम से मिलने का प्रयास नहीं किया है। दिल्ली से सोमवार को पटना लौंटेगे तो मुलाकात का समय लेंगे। इसके पहले शनिवार रात में सहनी दरभंगा से पटना पहुंचे और अपने आवास से बिना लाव लश्कर के निजी गाड़ी से पटना एयरपोर्ट पहुंचे। दिन में वे मुजफ्फरपुर में एक निजी कार्यक्रम में शामिल होकर पटना लौटे थे।
राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद से मिलने की चर्चा के बीच सहनी शनिवार रात दिल्ली पहुंचे। चर्चा है कि रविवार को वे लालू से मिल सकते हैं लेकिन सहनी ने इसे अफवाह बताया। कहा- वे व्यक्तिगत कारणों से दिल्ली आये हैं। हमारे नेता नीतीश जी थे, हैं और रहेंगे। मेरी नाराजगी अफसरशाही से है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *