सांकेतिक तस्वीर। Image Source : Twitter

अमृतसर आम्रपाली समेत कई ट्रेनों का परिचालन शुरू, दरभंगा-समस्तीपुर रेलखंड भी चालू

Patna : कोरोना के आतंक में महीनों से बंद ट्रेनों को शुरू करने की प्रक्रिया रेलवे ने तेज कर दी है। रेलवे लगातार कोशिश कर रहा है कि हर रूट पर रेल यात्रा आरामदायक हो। खासकर बिहार रेलखंडों पर अतिरिक्त दबाव को देखते हुये बंद ट्रेनों को तेजी से खोला जा रहा है। इसी के तहत पूर्व मध्य रेलवे के दरभंगा से समस्तीपुर और मुक्तापुर से समस्तीपुर स्टेशनों के बीच पानी के बढ़ते स्तर के कारण रद्द ट्रेनों के अलावा शार्ट टर्मिनेशन ट्रेनों को समाप्त करके सामान्य संचालन 26 जुलाई से शुरू कर दिया है। जिसमें जयनगर-अमृतसर, दरभंगा-अमृतसर व जयनगर-लोकमान्य तिलक ट्रेनों का संचालन पटरी पर लौट आया है। वहीं ट्रेन नंबर 05733 कटिहार से अमृतसर आम्रपाली ट्रेन 26 जुलाई से प्रतिदिन चलायी जायेगी। यह ट्रेन कटिहार से रात 10.45 बजे चलकर दूसरे दिन बस्ती, मनकापुर, गोंडा, बाराबंकी होते हुए बादशाहनगर शाम 5.38 बजे, ऐशबाग 6.10 बजे होकर तीसरे दिन जालंधर सिटी होकर दोपहर 12.20 बजे अमृतसर पहुंचेगी।

यही ट्रेन वापसी में ट्रेन नंबर 05734 अमृतसर कटिहार आम्रपाली ट्रेन 29 जुलाई से प्रतिदिन चलेगी। यह ट्रेन अमृतसर से सुबह 8.25 बजे रवाना होकर दूसरे दिन ऐशबाग रात 2.20 बजे, बादशाहनगर 2.42 बजे पहुंचकर कटिहार 10.10 बजे पहुंचेगी। उत्तर रेलवे के मुरादाबाद-शाहजहांपुर रेलखंड के अन्तर्गत रिमॉडलिंग कार्य के चलते लखनऊ-चंडीगढ़ एक्सप्रेस समेत कई अन्य स्पेशल ट्रेनों को निरस्त कर दिया गया था। जिसमें ट्रेन नंबर 05011 लखनऊ जंक्शन से चंडीगढ़ ट्रेन का संचालन 28 जुलाई से व ट्रेन नंबर 05012 चंडीगढ़ से लखनऊ जंक्शन 29 जुलाई से अपने तय समय सारणी से शुरू होगा।
इधर उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले में बड़ा हादसा टल गया है। फतेहपुर में रामवा रेलवे क्रॉसिंग पर गेटमैन ने गुरुवार की रात टार्च जलाकर स्पष्ट संकेत देते हुये छोड़ दिया और फिर सो गया। उसे नींद आ गई। टॉर्च जलती रही और कई ट्रेनें सिग्नल ग्रीन समझकर गुजरती गईं। हालांकि रेलवे बैरिकेड्स बंद था जिसकी वजह से वहां बड़ा जाम लग गया। लोगों की शिकायत पर एक टीम मौके पर पहुंची और तब उन्होंने गेटमैन को सोते हुये पाया। सोये हुये रेल कर्मचारी का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। प्रयागराज के मंडल रेल प्रबंधक (डीआरएम) मोहित चंद्र ने गेटमैन को सस्पेंड कर दिया और पूरे मामले की जांच के आदेश भी दे दिये।
शर्मा ने रात करीब 12 बजे बैरिकेडिंग बंद कर दी। दिल्ली-हावड़ा मार्ग पर ट्रेनें आगे बढ़ती रहीं क्योंकि उन्हें लगा कि आगे यातायात साफ है। इस सिग्नल को पार करने वाली ट्रेनों में प्रयागराज एक्सप्रेस, रीवा एक्सप्रेस, शिव गंगा एक्सप्रेस, पुरुषोत्तम एक्सप्रेस शामिल हैं। अनुभाग अभियंता अनूप सिंह ने बताया कि पूछताछ के दौरान गेटमैन ने बताया कि वह पिछले दो दिनों से बीमार है। इस बीमारी की वजह से उसने दवा ली और सुबह तीन से चार बजे के बीच उसे नींद आ गई।
उत्तर प्रदेश में इसी तरह की एक अन्य घटना में औरैया जिले में एक सहायक स्टेशन मास्टर इस महीने की शुरुआत में कंचौसी रेलवे स्टेशन पर शराब पीकर सो गया था। स्टेशन पार करने से पहले ट्रेनें लगभग दो घंटे तक हरी झंडी का इंतजार करती रहीं। मामले की जानकारी होने पर स्टेशन अधीक्षक विशंभर दयाल पांडेय ने अनिरुद्ध को जगाया। अनिरुद्ध को प्रयागराज के वरिष्ठ मंडल संचालन प्रबंधक एसके शुक्ला ने निलंबित कर दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *